Sunday, September 27, 2020
Home awareness WHO ने दी चेतावानी, कहा – लॉकडाउन हटाए तोह हो सकती है...
World Health Organization leaders at a press briefing on COVID-19, held on March 6 at WHO headquarters in Geneva. Here's a look at its history, its mission and its role in the current crisis.

WHO ने दी चेतावानी, कहा – लॉकडाउन हटाए तोह हो सकती है तबाही !!!

Whatsapp button

नई दिल्ली। कोरोना से त्रस्त हुई दुनिया में अब हेल्थ सिस्टम को लेकर भी कुछ ऐसी खबरें सामने आ रही हैं जो निराशाजनक है। बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) के एक सर्वे में सामने आया है कि कोरोना (Coronavirus) की वजह से दुनिया के 90% से ज्यादा देशों का हेल्थ सिस्टम बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

यह भी पढ़े : देखिए सरकार ये क्या हो रहा है आपके रामराज्य में – ऑक्सीमीटर और थर्मल स्कैनर के 10 हजार मांगे, मार्केट में रेट 4000, नहीं दिये तो मरीज को घर से उठाकर ले गए कोविड सेंटर…वहां भी नहीं करते जांच…

स्वास्थ्य सेवाओं की खराब हालत की वजह से WHO ने कहा है कि, मार्च से जून के बीच मिले डेटा से पता चलता है कि स्वास्थ्य व्यवस्थाएं (Health System) चरमरा रही हैं और ऐसे ही चलता रहा तो इनका और ज्यादा दिनों तक टिका रहना काफी मुश्किल होगा।

WHO ने चेताया है कि जो देश बिना तैयारी के लॉकडाउन हटा रहे हैं, वे तबाही को बुलावा दे रहे हैं। WHO के मुताबिक कोरोना के चलते कई रूटीन अपॉइंटमेंट और स्क्रीनिंग कैंसल करनी पड़ रही हैं। वहीं महामारी की वजह से कैंसर के इलाज जैसे क्रिटिकल केयर पर भी बहुत बुरा असर पड़ा है।

मध्यम और कम आय वाले देशों को सबसे ज़्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। आधे से ज़्यादा देशों में गर्भनिरोध और फैमिली प्लेनिंग (68%), मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का इलाज (61%) और कैंसर का इलाज (55%) प्रभावित हुआ। एक चौथाई देशों में जीवनरक्षक आपातकालीन सेवाएं प्रभावित हुईं।

यह भी पढ़े : कोरोना से भाजपा नेता की मौत…अचानक बिगड़ी तबीयत और तोड़ दिया दम।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोरोना वायरस की वैक्सीन को मंज़ूरी देने की प्रक्रिया को ‘गंभीरता’ से लिए जाने की ज़रूरत है। संयुक्त राष्ट्र के स्वास्थ्य संगठन की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने पत्रकारों से कहा कि सभी देश ट्रायल पूरा किए बिना दवाओं को मंज़ूरी देने का अधिकार रखते हैं मगर यह कोई ‘हल्के में लिया जाने वाला काम नहीं है।’

WHO का कहना है कि इस समय 33 वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है जबकि 143 टीके अभी प्री क्लीनिकल इवैल्युएशन के चरण में हैं। संगठन ने साफ़ कहा है कि जो देश बिना क्लीनिकल ट्रायल को पूरे किये बिना वैक्सीन का इस्तेमाल करने के बारे में सोच रहे हैं उन्हें बुरे नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं।

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, दुनिया भर में कोविड-19 के 25,318,901 मामले दर्ज किए गए हैं जबकि 847,797 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण स्थिति गंभीर बनी हुई है। व्हाइट हाउस की ओर से जनता को कहा गया है कि वैक्सीन का इंतज़ार न करें, सजग रहें।

यह भी पढ़े : कार्यकर्ताओ की मांग टी. एस. सिंहदेव को बनाया जाये कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष, जानिए पूरी ख़बर।

Youtube button

   विज्ञापन  के लिए संपर्क करें – 8889075555