राजधानी में कई मकानों में घुसा पानी;लोगों को किया गया रेस्क्यू, बलौदाबाजार-खरौरा रूट बंद, बेमेतरा में कई गांव से संपर्क टूटा, कोंटा में बाढ़ का खतरा

785

रायपुर, सावन खत्म होते-होते एक बार फिर छत्तीसगढ़ में बादल टूटकर बरस रहे हैं। लगातार हो रही बारिश अब रायपुर से लेकर बस्तर और बेमेतरा तक कहर बरपाने लगी है। रायपुर भी सेजबहार नाला उफान पर होने से गांव में पानी घुस गया है। इसके कारण कई मकान डूब गए हैं। बेमेतरा में भी गई गांवों का संपर्क मुख्यालय से टूट गया है। आकाशीय बिजली गिरने से एक महिला की भी मौत हो गई है। दूसरी ओर राजनांदगांव जिला अस्पताल बारिश से जलमग्न है। दुर्ग में भी बारिश ने 4 साल का रिकार्ड तोड़ दिया है।

वहीं आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में भी लगातार बारिश हो रही है। बुधवार को भी तीनों प्रदेशों के लिए अलर्ट जारी है। छत्तीसगढ़-आंध्र प्रदेश-तेलंगाना रूट पर परवीरापुरम में एक फीट पानी भर गया है। आशंका जताई जा रही है कि जल स्तर बढ़ने से कुछ घंटों बाद तीनों राज्यों का संपर्क टूट सकता है। हालांकि गोदावरी नदी के जल स्तर में ठहराव आया है, लेकिन अब शबरी में पानी बढ़ने लगा है इसके कारण कोंटा में बाढ़ के हालात बन रहे हैं। तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में बारिश का रेड अलर्ट है।

रायपुर में SDRF तैनात, बलौदाबजार-खरौरा मार्ग बंद

पिछले 24 घंटे में रायपुर में हुई मूसलाधार बारिश के बाद अब निचले इलाके बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। सेज बहार में नाला उफान पर होने से पानी गांव में घुस गया है। बताया जा रहा है कि 25 से 30 मकान डूब गए हैं। इसके बाद प्रशासन ने बचाव कार्य शुरू कर दिया है। बताया जा रहा है कि अब तक 25 लोगों को रेस्क्यू किया गया है। मौके पर SDRF और मुजगहन थाना पुलिस तैनात है। दूसरी ओर बलौदाबाजार में भी कोल्हान नाला उफान पर आ गया है। इसके कारण सारागांव के पास बलौदाबाजार-खरोरा मार्ग बंद है।

बेमेतरा में नवागढ़-भाटापरा पुल बंद

बेमेतरा में भी पिछले 16 घंटे से लगातार बारिश हो रही है। इससे शिवनाथ नदी सहित सकरी नदी, हाफ नदी और नाले उफान पर हैं। इसके बाद दाढ़ी को तहसील के गांव सुनहरा भैया आमचो सहित कई गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया है। नवागढ़ नगर पंचायत में पानी लोगों के घरों में घुस गया है। नवागढ़-भाटापारा को जोड़ने वाले पुल पर पानी आने के कारण उसे बंद कर दिया गया है। वहीं सिटी कोतवाली क्षेत्र के तेंदूभाटा गांव में 56 साल की सहोदरा बाई की बिजली गिरने से मौत हो गई है। वह अपने पति के साथ खेत में काम कर रही थी।

दुर्ग जिले में 15 घंटे से लगातार हो बारिश जारी है। इसके कारण पूरा शहर पानी में तर हो गया है। सड़कें तालाब बन गई हैं। मार्केट भी पानी से लबालब हैं। बारिश के कारण पारा भी 6 डिग्री लुढ़क गया है। बताया जा रहा है कि चार साल में पहली बार 9 दिन के भीतर दुर्ग-भिलाई में 251 मिमी पानी गिरा है। यह कोरोना काल के बाद अगस्त के शुरुआती दिनों में पानी गिरने का नया रिकार्ड है। अभी तक 610.5 मिमी पानी गिर चुका है, जो सामान्य से 3 फीसदी अधिक है। बुधवार को भी मौसम विभाग ने यलो अलर्ट जारी किया है।