Home Uncategorized विश्व कप के लिए भारतीय टीम का चयन, चीफ सेलेक्टर अजीत अगरकर...

विश्व कप के लिए भारतीय टीम का चयन, चीफ सेलेक्टर अजीत अगरकर के सामने हैं ये बड़ी चुनौतियां ; किया है चुनौति आइये देखे पढ़े पुरी ख़बर

Treatments of lotus dental clinic birgaon

विश्व कप के लिए भारतीय टीम का चयन, चीफ सेलेक्टर अजीत अगरकर के सामने हैं ये बड़ी चुनौतियां

Ajit Agarkar: अजीत अगरकर मुंबई टीम की चयन समिति के अध्यक्ष रह चुके हैं। इस जिम्मेदारी को संभालते हुए उन्होंने कड़े फैसले लिए थे।

Ajit Agarkar: भारतीय क्रिकेट टीम से जुड़ा कोई भी फैसला चर्चा का विषय बन जाता है। टीम के चयन की चर्चा मैच से ज्यादा होती है। टीम में कौन-से खिलाड़ी चुने गए। उससे ज्यादा गॉसिप इस बात पर होती है कि कौन बाहर है। अब टीम सिलेक्शन की जिम्मेदारी पूर्व खिलाड़ी अजीत अगरकर के कंधों पर होगी। अगरकर को चयन समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। उन्हें इस साल होने वाले वनडे विश्व कप के लिए टीम का चयन करते समय कठिन फैसले लेने होंगे।

अजीत अगरकर के सामने अब क्या चुनौतियां हैं। आइए आगे विस्तार से जानते हैं।

सूर्यकुमार यादव को कर दिया था टीम से बाहर

अजीत अगरकर मुंबई टीम की चयन समिति के अध्यक्ष रह चुके हैं। इस जिम्मेदारी को संभालते हुए उन्होंने कड़े फैसले लेने का साहस दिखाया था। उन्होंने 2018 के घरेलू क्रिकेट सीजन में आउट ऑफ फॉर्म सूर्यकुमार यादव को टीम से बाहर कर दिया था। जसप्रीत बुमराह, श्रेयस अय्यर, ऋषभ पंत और केएल राहुल चोटिल होने के कारण टीम से बाहर है। इनमें से पंत विश्व कप में नहीं खेल पाएंगे। हालांकि अन्य तीन की उपलब्धता को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

विश्व कप 2023 के लिए टीम चयन में क्या चुनौतियां हैं?

खासकर केएल राहुल और अय्यर के न होने से चौथे और पांचवें नंबर के बल्लेबाजों को लेकर चिंता है। रोहित शर्मा, शुभमन गिल और विराट कोहली का टॉप-3 में खेलना तय है। अगले दो नंबर के लिए सूर्यकुमार यादव, ईशान किशन और संजू सैमसन के बीच टक्कर है। भारतीय टीम के पास यशस्वी जयसवाल और ऋतुराज गायकवाड़ भी विकल्प है। अगर केएल राहुल फिट नहीं होते हैं, तो ईशान और सैमसन में से किसी एक को विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी मिलेगी। चयनकर्ताओं के सामने सबसे बड़ी चिंता तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह है। बुमराह अकेले दम पर टीम को जीत दिला सकते हैं। हालांकि पीठ की चोट के कारण पिछले एक साल से बाहर है।

क्या टीम चयन में निरंतरता दिखाई देगी?

टीम प्रबंधन और चयन समिति के बीच मतभेद पुरानी बात है। अक्सर सामने आया है कि टीम का सिलेक्शन कप्तान और कोच की पसंद के मुताबिक किया जाता है। युवा खिलाड़ियों को नजरअंदाज और आउट ऑफ फॉर्म सीनियर खिलाड़ियों को लगातार मौके दिए गए। हालांकि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मैच के बाद चेतेश्वर पुजारा को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।

वेस्टइंडीज टेस्ट सीरीज के लिए यशस्वी जयसवाल और ऋतुराज गायकवाड़ जैसे युवाओं को टीम में शामिल किया है। ऋतुरात और यशस्वी ने आईपीएल में कमाल का प्रदर्शन दिखाया है। हालांकि, सवाल उठ रहा है कि आईपीएल के आधार पर खिलाड़ियों को टेस्ट टीम में चुनना कितना सही है।

विश्व कप के बाद सीनियर खिलाड़ियों पर लिया जाएगा फैसला?

रोहित शर्मा और विराट कोहली का फॉर्म पहले जैसे कंसिस्टेंट नहीं है। रोहित 36 साल और विराट 34 साल के हैं। कप्तान शर्मा की फिटनेस पर सवालिया निशान लग रहे हैं। जल्द ही भारतीय टीम को बदलाव के दौर से गुजरना होगा। सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड और अनिल कुंबले जैसे महान खिलाड़ियों के संन्यास के बाद टीम को दोबारा खड़ा करने का काम पूर्व चयन समिति के अध्यक्ष कृष्णम्माचारी श्रीकांत, दिलीप वेंगसरकर और संदीप पाटिल ने किया। अब अजीत अगरकर के सामने भी ऐसी कठिन परीक्षा है।

Verified by MonsterInsights