सिटी न्यूज रायपुर –

रायपुर। राजधानी रायपुर से बीरगांव के आगे स्थित धनेली नाला में तैनात ट्रफिक पुलिस के पुलिसकर्मियों का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है।

वीडियो में ट्रक चालक ने पुलिसकर्मियों पर बिना वजह पैसे मांगने और मारपीट (Beating) करने का आरोप लगाया है। ट्रक चालक से मारपीट की घटना वहां से गुजर रहे लोगों ने कैमरे में कैद कर लिया और मीडियाकर्मी के माध्यम से पुलिस महकमें के आला अधिकारियों तक पहुंचा दिया।

मामला सोशल मीडिया में वायरल होने पर डीजी आरके विज (Beating) ने रायपुर पुलिस अधीक्षक को मामलें में जांच करने के निर्देश दिए है।

सोशल मीडिया में जारी वीडियो के अनुसार घटना 21 अक्टूबर की दोपहर 1.30 बजे की है। ट्रक गुजरने के दौरान यातायात विभाग के कर्मचारी ने ट्रक रोका और पैसे मांगने लगे। पैसे नहीं देने पर ड्रायवर से मारपीट (Beating) की गई। मारपीट करने वालो यातायात पुलिस की गाड़ी में बैठे थे और उसमें अफसर भी शामिल था।

सोशल मीडिया में वायरल हुए वीडियो का सिटी न्यूज पुष्टि नहीं करता है। मीडियाकर्मी की ट्वीटर वॉल और डीजी के रिट्यूट के आधार पर खबर का निर्माण किया गया है।

राजधानी रायपुर और बीरगांव क्षेत्र के हर एक चौक चौराहे पर पुलिस वाले कागजात जांच और चालानी के नाम पर अवैध वसूली और धमकाने , दादागिरी कर वाहन रोकने, चाबी निकाल लेने , गाली गलौच, मारपीट करने, जलील करने की शिकायतें फिर से रोज मिलने लगी है लेकिन नेता और पुलिस के उच्च अधिकारी आंखे मूंदकर बैठी है, शिकायत करने वालों को ही धमकाया जाता है और ज्यादा दबाव बनाने पर कार्यवाही के नाम पर केवल खानापूर्ति कर दिया जाता है, यही वजह है कि हर थाना स्तर पर प्रतिदिन ये नजारे खुलेआम आप देख सकते है …!!

गौरतलब है कि रायपुर में धनेली नाका पर ट्रैफिक पुलिसकर्मियों के अवैध वसूली का वीडियो वायरल हुआ है। आरोप लगाया जा रहा है कि नाका पर तैनात पुलिसकर्मी वहां से निकलने वाले टैंपो व ट्रक चालकों से रुपयों की वसूली करते हैं और नहीं देने पर उनके साथ मारपीट की जाती है। वहीं डीएसपी ट्रैफिक सतीश ठाकुर ने कहा कि वीडियो बनाने वाला टैंपो चालक पहले भी झूठी शिकायतें कर चुका है।

जानकारी के मुताबिक, वीडियो करीब एक दिन पुराना देर रात का बताया जा रहा है। ट्रक धनेली नाका के पास से निकल रहा था। आरोप है कि तभी ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने रोक लिया और चालक से रुपए मांगने लगे। रुपए नहीं देने पर ट्रक चालक की पिटाई भी की गई। इस दौरान मोबाइल से इसका वीडियो बना लिया और अपने एक परिचित को भेजा। जिसने इसे सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया।

अफसर बोले- वीआईपी ड्यूटी में लगे थे जवान, हटाने लगे तो फर्जी वीडियो बनाया

वहीं डीएसपी सतीश ठाकुर ने वीडियो बनाने वाले टैंपो चालक को फर्जी बताया है। उनका कहना है कि ट्रैफिक पुलिसकर्मी उस समय वीआईपी ड्यूटी में लगे हुए थे। टैंपो वाले को हटाने लगे तो उसने वीडियो बनाकर झूठा आरोप लगा दिया। वह इससे पहले भी कई बार झूठी शिकायत कर चुका है। हालांकि वीआईपी ड्यूटी कर रहे इन पुलिसकर्मियों में से एक ने जूते तक नहीं पहने है।

सिटी न्यूज रायपुर…