स्पंदन मोबाइल एप से जुड़ेंगे 72 हजार पुलिसकर्मी, शिकायत के साथ ही इस एप से वे छुट्टी के लिए अप्लाई भी कर सकेंगे

  • एडीजी प्रशासन के नेतृत्व में 8 अफसरों की टीम सुलझाएगी शिकायतें

26 june 2020,

City News – CN      City news logo

रायपुर | राज्य के डीजीपी से लेकर 72000 पुलिसकर्मी एक मोबाइल एप्लीकेशन से जुड़ेंगे। इसके जरिए वे छुट्टी के लिए अप्लाई कर सकेंगे। साथ ही, एप के जरिए शिकायत भी कर सकेंगे। इसके लिए डीजीपी डीएम अवस्थी ने एडीजी प्रशासन हिमांशु गुप्ता के नेतृत्व में आठ अफसरों की टीम बनाई है।

डीजीपी भी एप के जरिए शिकायतों व समस्याओं की मॉनिटरिंग करेंगे। सीएम भूपेश बघेल ने पुलिसकर्मियों में तनाव के कारण आत्महत्या या सीनियर अफसरों से विवाद जैसी घटनाओं की रोकथाम के लिए डीजीपी को मनोवैज्ञानिकों से चर्चा कर एक्शन प्लान बनाने के निर्देश दिए थे।

इसके बाद डीजीपी अवस्थी ने सीनियर अफसरों, सभी आईजी व मनोवैज्ञानिक के साथ चर्चा के बाद स्पंदन कार्यक्रम तैयार किया। इसके साथ ही स्पंदन मोबाइल एप भी तैयार किया जा रहा है। टेक्नीकल टीम के साथ डीजीपी के सामने एप का ट्रायल वर्जन दिखाया।

हफ्तेभर में यह एप्लीकेशन तैयार हो जाएगा और सिक्योरिटी ऑडिट के बाद सीएम बघेल के हाथों लांच कराया जाएगा। इससे पहले ही डीजीपी ने एक कमेटी बना दी है, जो एप के माध्यम से मिलने वाली शिकायतों व सुझावों पर कार्यवाही करेगी।

एप में डीजीपी के साथ कांस्टेबल तक सभी सीयूजी नंबर से जुड़े रहेंगे। परिवार के लोग कर सकेंगे पोस्ट: जो पुलिसकर्मी बुजुर्ग हो गए हैं और उन्हें स्पंदन एप का इस्तेमाल करने में दिक्कत हो रही है तो उनके बदले परिवार के सदस्य आवेदन कर सकते हैं।

इसी तरह मोबाइल एप में आवेदन टाइप करने में यदि परेशानी है तो आवेदन का फोटो खींचकर भी पोस्ट कर सकते हैं। यदि किसी पुलिसकर्मी ने अपने सीनियर से छुट्टी के लिए आवेदन किया है और उसे छुट्टी नहीं दी जा रही है तो मुख्यालय की टीम निगरानी करेगी।

जवानों के बीच जा रहे पुलिस के अधिकारी

डीजीपी अवस्थी ने कांकेर के तरांदुल स्थित छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्स की डी कंपनी से स्पंदन कार्यक्रम की शुरुआत की थी। इसके बाद आईजी-एसपी और कमांडेंट जवानाें के बीच जा रहे हैं। उनकी समस्याएं सुन रहे हैं। साथ में भोजन कर रहे हैं।

जवानों के साथ बटालियन या कंपनी के मुख्यालय में रात भी बिताने कहा गया है, जिससे उनके साथ बेहतर माहौल बनाकर तनाव की स्थिति न बनने दें। पुलिस मुख्यालय के सीनियर अधिकारी भी अलग-अलग दिनों में जिला पुलिस व सीएएफ जवानों से मिलेंगे।

 ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए हमारे

   YOUTUBE चैनल को सब्सक्राइब करें  

           WHATSAPP   ग्रुप से जुड़ें          

 TELEGRAM चैनल को सब्सक्राइब करें

Source link

Share on :