• तखतपुर के लमेर गांव स्थित सरकारी स्कूल में बनाया गया है क्वारैंटाइन सेंटर, लखनऊ से लौटा श्रमिक 8 जून को हुआ था क्वारैंटाइन
  • अगले दिन तबीयत बिगड़ने पर भर्ती कराया गया था सिम्स में, 5 दिन उपचार के बाद तबीयत ठीक होने पर दी थी अस्तपाल ने छुट्‌टी

15 june 2020

City News – CN      City news logo

बिलासपुर | छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में सिम्स से डिस्चार्ज हुए एक श्रमिक की रविवार देर रात क्वारैंटाइन सेंटर में मौत हो गई। श्रमिक लखनऊ से लौटा था। उसे क्वारैंटाइन सेंटर में रखा गया, लेकिन अगले दिन तबीयत खराब होेने पर सिम्स में भर्ती कराया गया।

वहां पांच दिन उपचार करने के बाद अस्पताल प्रशासन ने देर रात छुट्‌टी दे दी। जिस पर श्रमिक को फिर से क्वारैंटाइन सेंटर भेजा गया था। जानकारी के मुताबिक, तखतपुर ब्लॉक के लमेर गांव निवासी फागूराम (41) लखनऊ में मजदूरी करता था। वह 8 जून को बिलासपुर लौटा तो उसे गांव के ही सरकारी स्कूल में बनाए गए क्वारैंटाइन सेंटर में भेज दिया गया।

अगले दिन 9 जून को तबीयत बिगड़ने पर प्रशासन की टीम ने उसे सिम्स में भर्ती करा दिया। यहां पर फागूराम का उपचार चलता रहा। सिम्स प्रबंधन ने उसे रविवार रात डिस्चार्ज कर दिया।

श्रमिक की मौत का कारण स्पष्ट नहीं

इसके बाद एंबुलेंस से उसे फिर क्वारैंटाइन सेंटर छोड़ दिया गया। यहां पर कुछ देर बाद ही श्रमिक फागूराम ने दम तोड़ दिया। इसके बाद से प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी हैरान हैं। मौत का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो सका है। उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाने के साथ दोबारा सैंपल लिया गया है। वहीं अस्पताल से मरीज के डिस्चार्ज होने और कुछ घंटों बाद मौत ने सिम्स प्रबंधन को एक बार फिर कटघरे में खड़ा कर दिया है।

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए  – 

हमारे   FACEBOOK  पेज को   LIKE   करें

सिटी न्यूज़ के   Whatsapp   ग्रुप से जुड़ें

हमारे  YOUTUBE  चैनल को  subscribe  करें

Source link