SALE 80% OFF| 100 मास्क | ऑफर सिर्फ इस हफ्ते तक | अभी खरीदें | सुरक्षित रहें

अच्छी खबर : छत्तीसगढ़ में कोरोना से रिकवरी रेट हुई बेहतर

19 june 2020

City News – CN      City news logo

देश में 100 में 53 तो प्रदेश में 59 मरीज ठीक हो रहे
आंकड़ों की गणना-

कोरोना की स्थिति- देश- प्रदेश

कुल मरीज- 3,66,944- 1,864
एक्टिव- 1,60,384- 756

डिस्चार्ज- 1,94,325- 1,099
(17 जून की स्थिति में)

रायपुर | प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या भले ही 1900 के नजदीक जा पहुंची हो, मगर राहत इस बात की है कि एक हजार से अधिक मरीज ठीक होकर घर वापसी कर चुके हैं। देश में जहां 100 में से 53 कोरोना मरीज स्वस्थ हो रहे हैं तो वहीं छत्तीसगढ़ में यह आंकड़ा 59 का है।

यानी हमारा रिकवरी रेट देश की तुलना में बेहतर है और अपेक्षा करनी चाहिए कि बेहतर होता जाए।भले ही आज स्थिति एक बार फिर से नियंत्रण में होती दिखाई दे रही है, मगर कोरोना कभी भी पलटवार कर सकता है। इसलिए तैयारी हर स्तर पर पूरी रखनी होगी।

नहीं भूलना चाहिए कि मजदूरों की वापसी के पहले भी स्थिति नियंत्रण में ही दिखाई दे रही थी, महीनेभर में ही संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 59 से 1900 पार हो गया। रिकवरी रेट में सुधार हफ्तेभर में दिखा है।

मगर, आज के समय में खतरा ग्रामीण क्षेत्रों से ज्यादा शहरी क्षेत्रों में बढ़ गया है, क्योंकि 8 जून से मॉल और परिवहन को छोड़ वह सबकुछ खुल चुका है। बाजारों में फिर से कोरोना की दस्तक के पहले जैसी भीड़ टूट रही है।

प्रदेश में गंभीर मरीजों की संख्या बहुत कम

प्रदेश में कोरोना वायरस से बीमार पडऩे पर गंभीर स्थिति में पहुंचने वाले मरीजों की संख्या बहुत कम है। जिन नौ लोगों की मौत हुई, उनमें से आठ पूर्व में गंभीर बीमारी से ही ग्रसित थे। विशेषज्ञों का मानना है कि प्रदेश के लोगों की इम्यूनिटी ही जल्दी स्वस्थ होने की सबसे बड़ी वजह है।

केंद्र की गाइड-लाइन से बढ़ा रिकवरी रेट

आईसीएमआर ने मरीजों को छुट्टी देने की गाइडलाइन में संशोधन देश में बढ़ती मरीजों की संख्या, उपलब्ध सुविधाओं और मरीजों के ठीक होने की गति को देखते हुए किया है। आंकड़े बताते हैं कि देश-प्रदेश में कोरोना के 80 प्रतिशत मरीजों में कोई लक्षण नहीं होते हैं।

पहले पॉजिटिव आने पर उन्हें 14 दिनों तक अस्पतालों में भर्ती करना पड़ रहा था। मगर, अब 10 दिन में बेड खाली हो जा रहे हैं। कम गंभीर मरीजों को लगातार 3 दिनों तक सांस लेने में तकलीफ नहीं है या ऑक्सीजन की आवश्यकता नहीं तो उन्हें भी बिना टेस्ट के 10वें दिन छुट्टी दे दी जा रही है।

रिकवरी रेट में पहले से सुधार

आप यह कहें कि कोरोना के मरीज मिलना बंद हो जाएंगे तो ऐसा नहीं है। संख्या बढ़ेगी, क्योंकि वायरस मौजूद है और लोग भी पहले की तुलना में गैर-जिम्मेदार हैं। मगर, रिकवरी रेट में पहले से सुधार हुआ है।
डॉ. अखिलेश त्रिपाठी, उप संचालक एवं प्रवक्ता, स्वास्थ्य विभाग

Breaking -   अंग्रेजी मीडियम के 40 शासकीय स्कूलों के सेटअप को संविदा नियुक्ति हेतु सरकार की मंजूरी...

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए  – 

हमारे   FACEBOOK  पेज को   LIKE   करें

सिटी न्यूज़ के   Whatsapp   ग्रुप से जुड़ें

हमारे  YOUTUBE  चैनल को  subscribe  करें

Source link

Share on :