रायपुर। जीएसटी इंटेलीजेंस महानिदेशालय, छत्तीसगढ़ राज्य ने फर्जी जीएसटी इनपुट टैक्स क्रेडिट से जुड़े एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश किया है, जिसे रायपुर निवासी दो दोस्त चला रहे थे। आरोपियों के नाम रोहन तन्ना (31) और अभिषेक पाण्डेय (24) बताया जा रहा है। आज मंगलवार को दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

(जीएसटी) इंटेलीजेंस, रायपुर जोनल इकाई के एडिशनल डायरेक्टर जनरल अजय कुमार पाण्डेय के कुशल नेतृत्व एवं एडिशनल डायरेक्टर नेम सिंह की अगुवाही में एवं डिप्टी डायरेक्टर टिकेन्द्र कुमार कृपाल के निर्देशन में सात महीनों से चल रही जांच में आज विभाग को कामयाबी हासिल हुई है।

भूपेश है तो धोखा है : जागव जवान – जागव माटी पुत्र मितान : छत्तीसगढ के इतिहास के सबले बडे 4 लाख करोड के “घोटाला” ल रोकव ; कांग्रेस पार्टी अऊ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जवाब दव : छत्तीसगढिया मन के हक ल मारके – अडानी ल 55 रूपया लीटर म डीजल अऊ 10 ठन लोहा, कोईला के खदान फोकट म काबर दे हव…? – जोगी कांग्रेस

दरअसल विभाग द्वारा एक ऐसे फेक बिल के रैकेट का खुलासा हुआ है, जिसमें 8 से अधिक फर्जी फर्मों को बनाकर लगभग 7 करोड़ का GST कर अपवंचन करके शासन को राजस्व हानि पहुंचाई है। सूत्रों के अनुसार उक्त फर्जी फर्मों से फर्जी बिल जारी कर उनके आधार पर विभिन्न फर्मों को फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट पारित किया गया।