• प्रोफेसरों का कहना कॉलेज के पीछे ही क्वारेंटाइन सेंटर इसलिए क्यों बुलाया

15 june 2020

City News – CN      City news logo

रायगढ़ | लॉकडाउन में कोरोना संक्रमण को देखते हुए स्कूल, कॉलेज बंद हैं। लेकिन सरकारी कॉलेजों में कामकाज शुरू किया गया है, इसमें प्रोफेसरो के साथ सरकारी कर्मचारियों को बुलाया जा रहा है। गर्ल्स कॉलेज में महिला प्रोफेसरों को छोड़कर बाकी सभी स्टाफ को बुलाया जा रहा है |

इसे लेकर वहां प्रोफेसर और प्रिंसिपल के बीच विवाद की स्थिति बन गई है। प्रोफेसर्स का कहना है कि गर्ल्स कॉलेज के पीछे ही तेजस्वनी हॉस्टल है। जहां क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है। अध्यापन बंद है फिर उन्हें क्यों बुलाया जा रहा है। नाराज प्रोफेसर्स चाहते हैं कि अगर ऑफिस में काम है तो रोटेशन पर स्टाफ को बुलाया जाना चाहिए।

हालांकि उच्च शिक्षा विभाग ने भी कॉलेजों को निर्देश जारी किया है कि कामकाज के लिए राजपत्रित अधिकारियों (प्रोफेसर) के साथ कर्मचारियों को भी बुलाया जाए। कॉलेजों में प्रोफेसरों को जरूरत को देखते हुए कार्यालय के कामकाज के लिए बुलाया जा रहा है |

इसी बात को लेकर गर्ल्स कॉलेज में विवाद स्थिति बनी हुई है। कुछ दिनों पहले डिग्री कॉलेज में भी प्रोफेसरों को बुलाने को लेकर विवाद स्थिति बनी थी, वहां भी दो-तीन प्रोफेसरों को छोड़ बाकी आ भी नहीं रहे हैं।

उपयोगिता जिसकी है उसे बुलाया जा रहा है

ऑफिस में नैक ग्रेडिंग, स्थापना और अकाउंट्स सहित कई कामकाज होते हैं। इसके लिए प्रोफेसरों के साथ कर्मचारियों को भी बुलाना जरूरी है। महिला प्रोफेसर की उपयोगिता नहीं है इसकी वजह से उन्हें नहीं बुलाया जा रहा है। जिन प्रोफेसरों की जरूरत पड़ रही है उन्हें बुलाया जा रहा है।”
अतुल श्रीवास्तव, प्रिंसिपल, गर्ल्स कॉलेज

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए  – 

हमारे   FACEBOOK  पेज को   LIKE   करें

सिटी न्यूज़ के   Whatsapp   ग्रुप से जुड़ें

हमारे  YOUTUBE  चैनल को  subscribe  करें

Source link