Big Breaking : वाह रे सरकार – एक तरफ नशामुक्ति का नारा, दुसरी ओर छत्तीसगढ़ सरकार के मंत्री खुद अपने जमीन/दुकान में शराब दुकान खुलवाकर कर रही है लाखों की कमाई … !

1262
रायपुर 01 अगस्त 2022.  नशामुक्ति का नारा बुलंद करने वाले ही जब शराब दुकान को कमाई का जरिया बना ले तो नशामुक्ति कैसे हो.. मदिरा प्रेमी व्यसन से दूर कैसे रहे। बात हो रही है समाज कल्याण मंत्री की जो सभाओ में नशामुक्ति का नारा बुलंद करती है, लोगो को शराब ना पीने की सलाह देती है और खुद ही अपने निजी दुकान को शराब दुकान के लिए किराये पर दे रखी है। जिस विभाग द्वारा प्रत्येक वर्ष नशामुक्ति और उसके प्रचार प्रसार पर सालाना करोडो रुपये खर्च किया जाता है और उसी विभाग की मंत्री शराब दुकान किराये पर चढ़ाकर महीने में लाखो उठाये तो नशामुक्ति अभियान की गंभीरता को समझा जा सकता है।मसला समाज कल्याण विभाग मंत्री श्री मति अनिला भेंडिया ने अपने विधानसभा क्षेत्र डौंडीलोहारा का है जहा मंत्री के नाम दर्ज दुकान और गोदाम पर सरकारी विदेशी शराब दुकान संचालित है। डौंडीलोहारा के खसरा क्रमांक 755/1 में मंत्री श्रीमती भेड़िया के नाम पर दर्ज जमीन में विदेशी शराब दूकान संचालित हो रहा है, जिसके बदले में विभागीय मंत्री को प्रत्येक महीने लाखो रुपये किराये भी दे रहा है।

नशामुक्ति के प्रचार में करोडो खर्च-

समाज कल्याण विभाग द्वारा आम लोगो को व्यसनमुक्त रहने और नशामुक्ति के प्रचार प्रसार के लिए सालाना करोडो रुपये खर्च करता है। विभाग द्वारा राजधानी सहित गाँवो और शहरो के मुख्य सडको और चौराहो पर दैत्याकार होर्डिंग लगाकर नशामुक्ति के फायदे गिनाया जाता है उधर उस विभाग की मंत्री द्वारा अपने निजी दूकान में शराब दुकान संचालित कर लाखो रुपये का किराया उठाया जाता है।

बीजेपी नेता की शिकायत-

विभागीय मंत्री द्वारा अपने निजी जमीन पर शराब दुकान संचालित करने पर बीजेपी मुखर है। बालोद के बीजेपी नेता देवलाल ठाकुर ने इसकी शिकायत बालोद जिला प्रशासन से की है। बीजेपी नेता ने कहा कि

एक तरफ मंत्री आम लोगो को शराब ना पीने और उससे दूर रहने का सलाह देती है दूसरी तरफ खुद किराये पर दुकान देकर नशा को बढ़ावा दे रही है.. उनके द्वारा दी जाने वाले नशामुक्ति का नारा केवल दिखावा है।” 

मंत्री के निजी जमीन में शराब दुकान संचालन पर मंत्री श्रीमती अनिला भेंडिया से उनका पक्ष जानने की कोशिश की गई, उन्हें फ़ोन मेसेज किया गया पर नो रिप्लाई रहा। उनके विशेष सहायक जीएल यादव से इस संबंध में जानकारी चाही गई भी अनभिज्ञता जाहिर की। अगर भविष्य में मंत्री का पक्ष आता है उसे भी प्रमुखता से प्रकाशित किया जायेगा।

(स्वतंत्र बोल) ….