25 जुलाई से बेमुद्दत हडताल; टीचर्स नहीं जायेंगे स्कूल, नॉन टीचिंग स्टाफ भी देगा समर्थन

605

रायपुर, छत्तीसगढ़ के शिक्षकों ने 25 जुलाई से अनिश्चितकालीन हड़ताल काअ ऐलान कर दिया है। रायपुर में एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस आंदोलन को लेकर अलग-अलग शिक्षक संगठनों के नेताओं ने एकता दिखाने की कोशिश की। सभी ने दावा किया कि पूरे प्रदेश के शिक्षक संघ के लोग इस आंदोलन में भाग ले रहे हैं।

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा, छत्तीसगढ़ शालेय शिक्षक संघ के प्रांताध्यक्ष वीरेंद्र दुबे, नवीन शिक्षक संघ के प्रदेश प्रमुख विकास राजपूत ने कहा कि 25 जुलाई से सभी टीचर स्कूलों में तालाबंदी करेंगे। कोई काम नहीं करेगा। ब्लॉक लेवल पर धरना दिया जाएगा। इसमें नॉन टीचिंग स्टाफ भी शामिल हैं। ये हड़ताल अनिश्चित कालीन चलेगी। हम महंगाई भत्ता दिए जाने मांग कर रहे हैं। सिर्फ स्कूल से जुड़े 3 लाख से अधिक कर्मचारी इस आंदोलन के दौरान काम बंद कर देंगे। उन्होंने कहा कि समस्त अधिकारी व कर्मचारी संगठन एक साथ एक मंच पर आकर अब अनिश्चित कालीन (आर-पार आंदोलन) करें तभी हमें DA और सातवे वेतनमान के अनुरूप HRA की प्राप्ति होगी अन्यथा सरकार द्वारा कर्मचारियों की इसी तरह उपेक्षा की जाती रहेगी

संजय शर्मा, वीरेंद्र दुबे और विकास राजपूत ने अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के प्रदेश संयोजक कमल वर्मा और मंहगाई भत्ता संघर्ष मोर्चा के प्रदेश संयोजक अनिल शुक्ला से अपील किया है कि कर्मचारी हित मे एकजुट होना ही समाधान है तभी सरकार की हठधर्मिता से लोहा लिया जा सकता है।अब समय एक, दो, तीन, पांच दिन के आंदोलन का नही अपितु आर-पार के लिए अनिश्चिकालीन आंदोलन का है, इसलिए अब इस दिशा में ईमानदारी से आगे बढ़ने की जरूरत है।

उन्होने फेडरेशन के संयोजक कमल वर्मा से आग्रह किया है कि आप अपनी टीम को 25 जुलाई से अनिश्चितकालीन आंदोलन के लिए तैयार करें ,आंदोलन निष्पक्ष बैनर, समान भूमिका व प्रान्ताध्यक्षों की सामूहिक नेतृत्व में होगा। ज्ञात हो कि पिछले 2 कैबिनेट बैठक में कर्मचारियों को मंहगाई भत्ता बढ़ने का भरोसा था, पर 14 जुलाई के कैबिनेट बैठक में कर्मचारियों के मंहगाई भत्ता पर निर्णय लेने के बजाय विधायकों के वेतन – भत्ते में वृद्धि का फैसला लिया गया।

25 से 29 तक बंद रहेंगे सरकारी दफ्तर
छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन की तरफ से भी काम बंद करने का एलान कर दिया गया है। इसमें प्रदेश का हर सरकारी कर्मचारी भाग लेकर दफ्तर में होने वाले कामकाज से खुद को अलग रखेगा। फेडरेशन ने 25 से 29 जुलाई तक कलम बंद काम बंद हड़ताल का एलान कर दिया है। इन 5 दिनों में सरकारी दफ्तरों में कोई काम नहीं होगा।