शर्मनाक : सत्ता के नशे में चूर कांग्रेस का असली चेहरा उजागर : दशहरा समारोह में कांग्रेस ‌विधायक के मुख्यआतिथ्य में, कांग्रेसियों ने उड़ाए फिल्मी गाने पर अश्लील डांस कर रही लड़की पर उडाये नोट… पुलिस वाले भी मंच पर बैठकर ले रहे थे डांस का मजा …

1916

दशहरा कार्यक्रम के दिन रावण दहन के बाद जो आयोजन हुआ, उसकी वजह से मामला सियासी हो चला है। कार्यक्रम के कुछ वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हैं। इसे लेकर सियासी बवाल मचना शुरू हो गया है । दरअसल वीडियो में लड़कियों का डांस है, भाजपा इसे अश्लील बता रही है और कार्यक्रम में चूंकि कांग्रेस के दिग्गज जिम्मेदार नेता शामिल थे, इसलिए कई तरह के आरोप भी लग  रहे हैं।मनेंद्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर जिले के खड़गवां में रावण दहन के बाद मंच पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यहां बिलासपुर से आई लड़कियों के बोल्ड डांस देखकर भीड़ ने शोर मचाना शुरू कर दिया। कांग्रेस के नेताओं ने नोट भी उड़ाए, कार्यक्रम का मजा सियासत और प्रशासन से जुड़े लोग भी ले रहे थे। इसलिए मामला चर्चा में आ गया।

डांसर्स ने फिल्मी गीतों पर किया परफॉर्म
डांसर्स ने फिल्मी गीतों पर किया परफॉर्म

डांस प्रोग्राम में मुख्य अतिथि इलाके के विधायक डॉ.विनय जायसवाल थे। कार्यक्रम में शामिल हुए युवक कांग्रेस विधानसभा अध्यक्ष मनोज शर्मा लड़कियों पर पैसों की बारिश की। खड़गवां ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष मनोज साहू भी मंच के करीब बैठकर लड़कियों का डांस देख रहे थे।

कार्यक्रम में कुछ पुलिसकर्मी मंच पर थे।
कार्यक्रम में कुछ पुलिसकर्मी मंच पर थे।

पुलिसकर्मियों ने लिया डांस का मजा
जनपद ग्राउंड में हुए इस कार्यक्रम में लाइव ऑर्केस्ट्रा के बीच लड़कियां डांस कर रही थीं। टना टना टूरी… गाने पर डांस कर रही युवतियों को देख जवान मुस्कुरा रहे थे। कार्यक्रम में मौजूद जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ पहुंचे ड्राइवर भी पूरी मस्ती में दिखे। कुछ तो स्टेज पर चढ़कर नाचने लगे, जिन्हें बाद में नीचे उतारा गया।

लड़कियों पर नोट उड़ाए गए।
लड़कियों पर नोट उड़ाए गए।

बीजेपी ने किया सवाल
वीडियो सामने आने के बाद भाजपा नेता गौरीशंकर श्रीवास ने कहा- दशहरा हमारी आस्था और सम्मान का प्रतीक है। बार डांसर्स पर विधायक के समर्थक नोट उड़ा रहे हैं। ये कौन सा छत्तीसगढ़िया वाद है, ये कौन सा गांधीवाद है। इससे पहले भी ऐसे कार्यक्रम हुए हैं। अश्लील डांस से यहां त्योहार को कलंकित करने का काम किया गया है। प्रदेश में इससे धर्म की बदनामी हो रही है।