वेतन काटने के आदेश से नाराज कर्मचारी संघों की बैठक रविवार को,अगस्त से कर सकते हैं बेमुद्दत हड़ताल

306

रायपुर, 34 प्रतिशत महंगाई भत्ता और केंद्र के समान गृहभाड़ा भत्ता की मांग को लेकर कर्मचारी संघों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है। वेतन काटने के आदेश से नाराज कर्मचारी संघों की बैठक रविवार को होगी। इसमे बेमुद्दत आंदोलन का ऐलान हो सकता है।

कर्मचारी संघों ने शुक्रवार को अपनी मांगों के समर्थन में प्रदेश के संभाग व जिला स्तर पर रैली निकालकर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के आह्वान पर सोमवार 29 जुलाई से शुक्रवार 29 जुलाई तक प्रदेश भर के कर्मचारी सामूहिक अवकाश लेकर हड़ताल पर हैं और शुक्रवार को इसका आखिरी दिन था।पांच दिन पूरी तरह से ठप रहा कामकाज

कर्मचारियों की हड़ताल की वजह से पांच दिनों तक आबकारी, कलेक्ट्रेट, तहसील कार्यालयों, स्कूल शिक्षा, उच्च शिक्षा, लोनिवि, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, नगर निगम जैसे कई महत्वपूर्ण विभाग में पूरी तरह से कामकाज ठप रहा। एक ओर अपना काम होने की उम्मीद में शासकीय कार्यालय पहुंचे लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ा। साथ ही राज्य शासन को भी राजस्व की हानि हुई है।

वेतन काटने के आदेश से नाराज

इधर राज्य शासन ने कल एक आदेश जारी कर हडताली कर्मचारियों का वेतन काटने के निर्देश दिये है। इससे कर्मचारी संगठनों में भारी आक्रोश है। ऐसे में बेमुद्दत आंदोलन के लिए कर्मचारियों का दबाव बढता जा रहा है। चूंकि इसी बीच सरकार ने विधायकों एवं मंत्रियों के वेतन भत्ते बढा दिये है। इसलिये सरकार बैकफुट पर है।