राजनीति : कांग्रेस का घोषणापत्र 2018 , शराबबंदी और ‘गंगाजल की सौगंध’ : 2023 में छत्तीसगढ़ की भोलीभाली जनता खुद अपने हांथों में गंगाजल लेकर धोखेबाज़ कांग्रेस को हराने की सौगंध खायेगें …

553

राजधानी रायपुर :  बीरगांव नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष डा. ओमप्रकाश देवांगन ने कहा कि 2018 में “गंगाजल” का अपमान करने वाले कांग्रेस को हराने  2023 में छत्तीसगढ़ की भोलीभाली जनता अपने हांथो में गंगाजल लेकर धोखेबाज़ कांग्रेस को हराने – सौगंध खायेगी,,   उन्होने कहा कि पिछले चुनाव में कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने अपने घोषणा पत्र में शराबबंदी, विधवा और वृद्ध  महिलाओं को 1500रू पेंशन, किसानों को 2 साल का बकाया बोनस, आउटसोर्सिंग बंद, दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमित करने , संपत्तिकर हाफ करने सहित 36 वादे का घोषणापत्र जारी कर लोगों को वचन दिये थे, लेकिन 15 साल से सत्ता सुख से वंचित कांग्रेस के दिग्गज नेताओं को लगने लगा कि हमारे “घोषणापत्र” पर आमजनता भरोसा नहीं करती, इसीलिए कांग्रेस हर बार “हार” जाती हैं,, इस बार कुछ एैसा करो कि चमत्कार हो जाए,  भले ही इसके लिए हमें जनता को  “धार्मिक इमोशनल ब्लैकमेल” करना पड़े,   तभी कांग्रेस के दिग्गज  नेताओं ने मिलकर छत्तीसगढ़ की भोलीभाली जनता को धोखा देने एक षडयंत्र रचा, जिसमें “गंगाजल” हाथ में लेकर कसम  खाकर लोगों को विश्वास दिलाने की कोशिश किया गया कि कांग्रेस ने जो “घोषणापत्र” जारी किया है उस पर भरोसा कर सके…!!आखिरकार हुवा भी यही,  कांग्रेस अपनी चाल में सफल हो गए छत्तीसगढ़ की  भोली भाली  जनता कांग्रेस के लुभावने  बहकावे में आकर “गंगाजल की सौगंध” पर भरोसा कर एकतरफा जीत दिला दिये, 

अब जब सरकार बन जाने और 4 साल पुरा हो जाने के बाद भी कांग्रेस  “शराबबंदी” सहित “घोषणा पत्र” में लिखे 36 वायदों को पुरा नही कर पा रही है तो “गंगाजल की सौगंध” वाली बात चुभने लगी है, आज मीडिया बुलाकर, वीडियो दिखाकर कांग्रेस फिर से – ये साबित करने की कोशिश कर रही है कि “गंगाजल की सौगंध” घोषणा पत्र में किए वायदे  “शराबबंदी” के लिए नही था  , लेकिन कांग्रेस के माननीय दिग्गजों ने मीडिया को ये नही बता पाये कि “घोषणापत्र में लिखे वचन – गंगाजल की कसम” में क्या अंतर है,,  यदि  शराबबंदी, विधवा और वृद्ध  महिलाओं को 1500रू पेंशन, किसानों को 2 साल का बकाया बोनस, दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमित करने , संपत्तिकर हाफ करने सहित 36 वादे जो कांग्रेस ने घोषणापत्र में लिखे हैं उन वादों को पुरा करने गंगाजल की कसम नही खाये है तो क्या अब घोषणापत्र के उन वादों को उन वचनों को पुरा नही  करेगें … !!

डा. ओमप्रकाश देवांगन ने कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में हैडिंग लाइन के साथ युवाओं को लुभाने 2500 हर महीने बेरोजगारी भत्ता देने की बात लिखते है और  लोगों के भावना के साथ फिर  खिलवाड़ करने कांग्रेस द्वारा बकायदा रायपुर के राजीव भवन में  प्रेस कांफ्रेस बुलाकर आज यह कहना प्रमाणित करता है कि हमने युवाओं को बेरोजगारी भत्ता देने का वादा नहीं किया है, 36 बिंदुओं में शामिल नहीं है तो फिर हैडिंग में क्यों लिखा गया, इसका जवाब कांग्रेस के लोग दे देगें तो मैं राजनीति से आजीवन सन्यास ले लुंगा…

कांग्रेस द्वारा जारी 2018 का “घोषणापत्र” फर्जी और  दिखावा था,  छत्तीसगढ़ के सीधेसादे  लोग आज समझ गए कि  सच में कांग्रेस ने लोगों के साथ छल किया, धोखा दिया…,,  छत्तीसगढ़ की समझदार जनता अब कांग्रेस के झूठ और षडयंत्र को समझ चुकी है,  आगामी विधानसभा चुनाव  2023 में कांग्रेस पार्टी और मुख्यमंत्री भुपेश बघेल के “घोषणापत्र” पर भरोसा नहीं करने वाली,  चाहे कांग्रेस अब पवित्र ग्रंथ गीता की सौगंध खाये या फिर से ‘गंगाजल की कसम’ खाये,,  आमजनता को धोखा देने वाली कांग्रेस को इस बार जनता खुद “गंगाजल” हाथ में लेकर कांग्रेस को हराने का सौगंध लेगी …  !!