देश की सरजमीं पर 8 चीते; PM ने फोटो खींचे, खाना-पानी मिलने के बाद चीतों ने लगाई छलांग

946

भोपाल, कूनो नेशनल पार्क अब देश का एकमात्र ऐसा नेशनल पार्क बन गया है। जहां चीतों की गुर्राहट सुनाई देगी। यह पार्क चीतों का नया बसेरा बनाया गया है। नामीबिया से लाए गए तीन नर और पांच मादा चीते कूनो के मेहमान तो बन गए हैं, लेकिन अभी कुछ अनमने से हैं। वन्यजीव प्रबंधन से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है, कि लंबी यात्रा, थकान और बेहोशी की दवा के असर के चलते अभी चीतों को अपनी प्राकृतिक अवस्था में लौटने में कुछ वक्त लगेगा। वे बड़े आशान्वित हैं कि 75 साल बाद भारत की धरती पर चीतों का कुनबा बढ़ेगा। विशेषज्ञों का कहना है कि अफ्रीका के जंगल या खुले मैदान, हमारे देश से मिलते-जुलते हैं। इसलिए यहां की आवाेहवा में चीतों को ढलने मेें ज्यादा वक्त नहीं लगेगा।

नामीबिया से लाए चीतों ने तीन दिन बाद पानी पीया। शनिवार सुबह पीएम मोदी ने चीतों को कूनो नेशनल पार्क के बाड़े में छोड़ा, इसके 4 घंटे बाद चीतों को खाना दिया गया। चीतों ने इस दौरान पानी भी पीया। बाड़े में आने के बाद करीब एक घंटे तक चीते सहमे हुए से दिखे। चीते बाडे़ में एक पेड़ के नीचे बैठे रहे। उन्होंने करीब 3 घंटे बाद बाड़े में बने हौद में जाकर पानी पीया। इसके बाद कुछ दूर छलांग भी लगाई। 4 घंटे बाद उन्हें खाना दिया गया। साढ़े 4 घंटे बाद नामीबिया से चीतों के साथ आई विशेषज्ञों की टीम ने 3 बार उनका चेकअप किया।

इससे पहले भारत का 70 साल का इंतजार शनिवार को उस वक्त खत्म हो गया, जब नामीबिया से आए 8 चीतों ने देश की सरजमीं पर पहला कदम रखा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कूनो नेशनल पार्क में बॉक्स खोलकर 2 चीतों को क्वारंटीन बाड़े में छोड़ा। रिकॉर्डेड भाषण में PM मोदी ने चीते भेजने के लिए नामीबिया का आभार माना।

पीएम मोदी ने चीता मित्रों से कहा- कूनो में चीता फिर से दौड़ेगा तो यहां बायोडायवर्सिटी बढ़ेगी। यहां विकास की संभावनाएं जन्म लेंगी। रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। PM ने लोगों से अपील की कि अभी धैर्य रखें, चीतों को देखने नहीं आएं। ये चीते मेहमान बनकर आए हैं। इस क्षेत्र से अनजान हैं। कूनो को ये अपना घर बना पाएं, इसके लिए इनको सहयोग देना है।

कूनो में प्रधानमंत्री के लिए 10 फीट ऊंचा प्लेटफॉर्मनुमा मंच बनाया गया था। इसी मंच के नीचे पिंजरे में चीते थे। PM ने लीवर के जरिए बॉक्स को खोला। चीते बाहर आते ही अनजान जगह में सहमे हुए दिखे। सहमते कदमों के साथ इधर-उधर नजरें घुमाईं और चहलकदमी करने लगे। लंबे सफर की थकान चीतों पर साफ दिख रही थी। चीतों के बाहर आते ही PM मोदी ने ताली बजाकर उनका स्वागत किया। मोदी ने कुछ फोटो भी क्लिक किए। 500 मीटर चलकर मोदी मंच पर पहुंचे थे। उनके साथ राज्यपाल मंगूभाई पटेल और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी थे। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन भी है।

एक महीने क्वारंटाइन बाड़े में रहेंगे चीते –

एक माह की क्वारंटाइन अवधि में कूनो नेशनल पार्क में चीतों को भैंसे का मांस दिया जाएगा। वह भी सप्ताह में दो दिन। ऐसा इसलिए, क्योंकि चीतों को एक महीने तक 1500 वर्ग मीटर के बाड़े में रखा जाना है। जिसमें उनकी शारीरिक गतिविधि कम हो जाएगी। ऐसे में ज्यादा मांस देने से पाचनक्रिया की समस्या आ सकती है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि चीतों का जलवायु परिवर्तन भी हो रहा है। नई जगह व्यवस्थित होने में उन्हें कुछ समय भी लगेगा। वहीं चीतों के साथ नामीबिया से आए विशेषज्ञ प्रो. एड्रिन, डा. लारी मार्कर और विंसेंट तय करेंगे कि उन्हें कितनी अवधि में कितना मांस दिया जाना है। 15 दिन में इनकी डाइट की समीक्षा होगी।