Thursday, January 28, 2021
Home Chhattisgarh news

जिलों की कार्यकारिणी के लिए पीसीसी ने सिर्फ 31 नाम भेजने के लिए दिए निर्देश, 100 से ज्यादा कि गई सिफारिश

Whatsapp button

18 महीने पहले सत्ता में आई कांग्रेस के संगठन में भी नियुक्तियों को लेकर जोड़तोड़ और नाराजगी उभरने लगी है। इस वजह से जिला कांग्रेस अध्यक्ष पांच महीने बाद भी अपनी कार्यकारिणी नहीं बना पा रहे हैं।

यही स्थिति पीसीसी की भी है। इस जोड़तोड़ में जिला कार्यकारिणी के लिए जिलों से 100 से ज्यादा नामों की सूची भेजी जा रही है जिस पर पीसीसी ने अड़ंगा लगाते हुए सिर्फ 31 नाम भेजने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़े –  रेलवे वैगन शॉप में 1 कर्मचारी पाया गया कोरोना पॉजिटिव, 10 लोग हुए क्वारंटाइन

दरअसल मोहन मरकाम ने प्रदेश अध्यक्ष बनने के छह महीने बाद पीसीसी की कार्यकारिणी के साथ 36 जिला कांग्रेस अध्यक्षों की सूची भी जारी की थी।

नए अध्यक्ष बनाए जाने के बाद जिले में संगठन के लिए काम कर रहे कार्यकर्ताओं को उम्मीद थी कि इस बार उन्हें जिला बॉडी में पद जरुर मिलेगा।

इसी उम्मीद के साथ नए अध्यक्षों ने भी जिलेभर के सक्रिय पदाधिकारियों के नाम शामिल कर अपनी भारी-भरकम सूची तैयार कर पीसीसी को भेज दी है।

यह भी पढ़े –  फिल्म और टीवी कार्यक्रमों की शूटिंग में कैमरा फेस करने वाले कलाकारों को छोड़ बाकी लोगों को जरूर पहनना होगा मास्क , 6 फीट की रखनी होगी दूरी

लेकिन पीसीसी ने जिलाध्यक्षों से बड़ी सूची की बजाय सिर्फ छांटकर सिर्फ 31 लोगों के नाम भेजने के निर्देश जारी किए हैं। पीसीसी के इस नए दिशा-निर्देश के बाद से जिलाध्यक्ष भी चिंता में हैं कि किसे छोड़े और किसे रखें।

अगले चुनाव तक काम करेगी नई बॉडी : पीसीसी की इस निर्देश से जिलों की सक्रिय राजनीति में अपनी भूमिका निभा रहे नेता सरकार के किसी भी निगम-मंडल आयोग में सदस्य बनने के सपने देख रहे हैं।

वहां पर यदि नाम नहीं आया तो उन्हें जिले की बॉडी में सम्मानजनक पद की आस भी बनी हुई है लेकिन यदि ऐसा नहीं हुआ तो निश्चित ही पार्टी में बगावती तेवर भी नजर आएंगे।

यह भी पढ़े –  जगह-जगह किया जा रहा है लॉकडाउन का खुलेआम उल्लंघन; सब्जी, चिकन-मटन सब कुछ खुले आम बिक रहा है

जिलाध्यक्षों के सामने दुविधा इस बात को लेकर भी है कि कहीं छांटकर नाम भेजने के बाद जिले में बवाल न हो जाए। क्योंकि यही चुनी हुई बॉडी ही आगामी चुनाव तक काम करेगी।

चुनाव के समय बनाए जाते हैं 31 पदाधिकारी
पार्टी के वरिष्ठ सदस्यों का कहना है कि जब संगठन के चुनाव किए जाते हैं तब ही 31 पदाधिकारियों की नियुक्तियां की जाती हैं।

लेकिन अभी संगठन के काेई चुनाव नहीं हैं इसलिए अभी जिले की बॉडी में मनोनयन किया जाना है। चूंकि 15 साल बाद सरकार बनने के बाद हो रहे पदों के टोटे के बीच यदि सक्रिय नेताओं को संगठन में भी पद नहीं मिलेगा तो नाराजगी होना स्वाभाविक है।

Youtube button

    विज्ञापन हेतु  संपर्क करें।  

Source link