• पाकिस्तान की वायुसेना हाई मार्क कोड नाम से एक वॉर गेम में हिस्सा ले रही है
  • इसमें पाकिस्तानी एयरफोर्स के सभी फाइटर जेट शामिल

10 june 2020

City News – CN

इस्लामाबाद |  पाकिस्तान की वायुसेना इन दिनों एक वॉर गेम में हिस्सा ले रही है। इसका कोड नेम हाई मार्क है। भारतीय वायुसेना इस पर पैनी नजर रख रही है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, इस वॉर गेम का मकसद फरवरी में हुए बालाकोट जैसे हमलों से निपटना है। पिछले साल फरवरी में भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी। इसमें जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ट्रेनिंग कैम्प को तबाह कर दिया गया था। 

हर तरह के लड़ाकू विमान शामिल

एयरफोर्स (पीएएफ) के इस वॉर गेम में उसके सभी फाइटर जेट हिस्सा ले रहे हैं। इनमें जेएफ-17, एफ-16 और मिराज 3 शामिल हैं। पीएएफ ने अभ्यास की जानकारी, वहां की एविएशन मिनिस्ट्री को भी दी है। 

रात में उड़ान भरने का अभ्यास
रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तानी एयरफोर्स रात में उड़ान भरने का अभ्यास कर रही है। भारतीय वायुसेना ने पिछले साल 26 फरवरी को ही बालाकोट एयर स्ट्राइक को अंजाम दिया था। मंगलवार रात कराची के आसमान पर पाकिस्तानी एयरफोर्स के लड़ाकू विमान नजर आते रहे। पिछले हफ्ते भी पाकिस्तान ने ऐसी ही एक एयरफोर्स ड्रिल की थी। तब हंदवाड़ा के एक एनकाउंटर में भारतीय सेना के एक कर्नल शहीद हो गए थे। पाकिस्तान को डर था कि भारतीय वायुसेना फिर कोई एयर स्ट्राइक कर सकती है। 

26 फरवरी को वायुसेना ने एयर स्ट्राइक की थी
वायुसेना ने पिछले साल 12 फरवरी को पुलवामा हमले के बाद 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी समूह जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर हमले किए थे। अगले दिन 27 फरवरी को पाकिस्तान की जवाबी कार्रवाई की कोशिशों को वायुसेना ने विफल कर दिया था। पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे। हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश ने ली थी। इसके 12 दिन बाद वायुसेना ने एयर स्ट्राइक की थी।

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए  – 

हमारे   FACEBOOK  पेज को   LIKE   करें

सिटी न्यूज़ के   Whatsapp   ग्रुप से जुड़ें

हमारे  YOUTUBE  चैनल को  subscribe  करें

Source link