• City News Raipur 
  • Raipur News 
  • रायपुर के पुरानी बस्ती थाने युवक ने दर्ज करवाई एफआईआर
  • खमतराई थाने में भी एक कारोबारी से ठगी का मामला आया सामने

रायपुर के एक युवक के साथ चंद मिनटों में हजारों रुपए की ठगी हो गई। पिज्जा ऑर्डर करने के चक्कर में इन जनाब को अपने हजारों रुपए गंवाने पड़ गए। ऑनलाइन ठगी के गैंग ने इन्हें अपने जाल में फंसाया इधर-उधर की बातें करते हुए 20 मिनट में घर पर पिज्जा भेजने का वादा किया और दूसरी तरफ इनके बैंक अकाउंट से 59 हजार 970 रुपए उड़ा ले गए। परेशान होकर युवक पुरानी बस्ती थाने पहुंचे और पुलिस को सारी बात बताई। शहर के खमतराई थाने में भी एक कारोबारी ने ठगी का केस दर्ज करवाया हालांकि ये मामला एडवांस लेकर माल डिलिवर ना करने का है।

ठग ने कहा 20 मिनट में आ जाएगा पिज्जा और हो गई ठगी
प्रोफेसर कॉलोनी के रहने वाले आलोक चंद्र वर्मा ने बताया कि मैंने पिज्जा ऑर्डर करने के लिए पचपेड़ी नाका स्थित डोमीनोस पिज्जा सेंटर का नंबर गूगल पर सर्च किया। मुझे 6201971403 और 9832271960 मिले, इनपर मैंने कॉल किया। फोन उठाने वाले ने खुद को पचपेड़ी नाका के डोमिनोज पिज्जा सेंटर का कर्मचारी बताया। मैनें ऑर्डर देने की बात कही तो उसने मेरे नंबर पर दो लिंक भेजे। इन लिंक पर डॉमिनॉज पिज्जा का जिक्र नहीं था। मुझे इन लिंक्स पर अपनी डिटेल्स देने को कहा गया। मैंने अपना नाम, मोबाइल नंबर, डेबिट कार्ड नंबर और 10 रूपए डाले जब मैंने ये जानना चाहा कि इतनी डिटेल्स क्यों ली गई तो कर्मचारी ने कह दिया कि दोबारा ऑर्डर करने पर ये जानकारी नहीं देनी पड़ती।

इसके बाद ठग ने दूसरा लिंक खोलकर जो एप डाउनलोड करने को कहा। आलोक ने वैसा ही किया। इसके बाद आलोक के नंबर पर एक ओटीपी आया। ठग ने कहा कि ये ओटीपी बताइए पिज्जा ऑर्डर करने के लिए ओटीपी जरुरी है। आलोक को शक हो गया, उसने ओटीपी बताने से इंकार कर दिया। इतने में ठग ने फोन रख दिया। आलोक ने फौरन अपने खाते का बैलेंस पता करने के लिए फोन पे एप चालू किया लेकिन वह काम नहीं कर रहा था पंजाब नेशनल बैंक के कस्टमर केयर पर भी फोन नहीं लग रहा था । कुछ देर बाद उसने बैंक से पता कि तो जानकारी मिली कि 20 हजार, 9 हजार रुपए के अलग-अलग 5 ट्रांजेक्शन से कुल 59 हजार रुपए खाते से निकाले जा चुके हैं।

कारोबारी से हुई 10 लाख की ठगी
खमतराई इलाके रहने वाले विजय वर्मा ने बताया कि हरियाणा के कारोबारी मलकियत सिंह मान ने उनके साथ 10 लाख रुपए की ठगी कर ली। विजय पेशे से कोयला व्यापारी हैं। इनके दोस्त जगदीश सिंह सैनी ने मलकियत सिंह मान का नंबर दिया कोयले की डील से जुड़ी बात-चीत की। विशाखापटनम पोर्ट से कोयला लेने की डील तय हुई। एडवांस के रुप में विजय ने 10 लाख रुपए दिए। अगस्त महीने में हुई इस डील के बाद कारोबारी ने आरोपी से कोयल देने की बात कही। मगर हरियाणा के कारोबारी ने अब तक ना तो रुपए लौटाए और ना ही कोयला दिया। आए दिन किसी न किसी तरह का बहाना बनाकर रायपुर के कारोबारी को परेशान किया जाता रहा। अब यह मामला पुलिस के पास पहुंचा है।