Home India news Chhattisgarh news

एंटिजेन से टेस्ट पॉजिटिव आने पर अन्य जैसे आरटीपीसीआर और ट्रू नॉट के बजाए इलाज तत्काल शुरू करना आवश्यक : डॉ. सुंदरानी

Whatsapp button

 

रायपुर। कोविड 19 चूंकि नई बीमारी है इसलिए इसके बारे में आम जनता में अनेक भ्रांतियां भी हैं। डॉ. भीमराव अंबेडकर स्मृति अस्पताल के चिकित्सक डॉ. सुंदरानी का कहना है कि, कोरोना का पता लगाने के लिए किए जाने वाला टेस्ट रैपिड एंटिजेन यदि पॉजिटिव आता है तो मरीजों को दोबारा आरटीपीसीआर या ट्रू नाट टेस्ट नहीं कराना चाहिए। उस टेस्ट का रिजल्ट आने का इंतजार करने में समय नहीं गंवाना चाहिए, बल्कि कोरोना का इलाज तत्काल चिकित्सक की देखरेख में शुरू करना चाहिए।

इससे मरीज के स्वस्थ होने की संभावना भी बढ़ेगी और अनावश्यक संसाधन भी खर्च नहीं होगा। उसके स्थान पर किसी गंभीर मरीज का टेस्ट हो जाएगा। उनका कहना है कि, जब रैपिड टेस्ट का रिजल्ट निगेटिव आता है और फिर भी यदि मरीज में कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं तो ही आरटीपीसीआर कराना चाहिए।

यह भी अत्यंत आवश्यक है कि, टेस्ट कराने के बाद से रिजल्ट आते तक लोगों को घर पर ही रहना चाहिए। दूसरों से और घर के अन्य सदस्यों से भी मेल-जोल नहीं रखना चाहिए। तभी हम सब इस बीमारी के संक्रमण से बचे रहेंगे।

Youtube button

 विज्ञापन के लिए संपर्क करें –  8889075555