• 02 AUGUST 2020
  • City news – Chhattisgarh
  • Corona news 

Whatsapp button

रायपुर | छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस बेकाबू होकर अब हर जगह पहुंच चुका है। अब तक सुरक्षित माने जा रहे वीआईपी और उनके बंगलों में वायरस दाखिल हो चुका है।

यह हमारी-आपकी उस लापरवाही का नतीजा है, जिसमें हर कोई यह कहते हुए सुना गया और आज भी कहा जा रहा है कि हमें कोरोना नहीं होगा।

1 से 31 जुलाई तक लागू रहे ऑनलाइन-2 में प्रदेश में सबसे ज्यादा 6334 मरीज रिपोर्ट हुए। यानी 31 दिन में हर रोज 204 मरीज मिले। इस दौरान 41 लोगों ने अपनी जान भी गंवा दी।

31 जुलाई तक संक्रमितों का आंकड़ा 9152 पहुंच गया। सोचिए, 24 मार्च को लागू हुए लॉकडाउन-1 में प्रदेश में सिर्फ एक संक्रमित मरीज था। 1 अगस्त से अब अनलॉक 3 से शुरू हो चुका है।

स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की मानें तो यह और भी ज्यादा खतरनाक साबित होगा, क्योंकि इस दौरान कोरोना संदिग्धों के सैंपल की संख्या बढ़ेगी, टेस्टिंग भी रोजाना 10000 पार होगी। स्वाभाविक है कि 204 की जगह 300 या 400 मरीज भी रोजाना मिल सकते हैं।

जुलाई में ये भी हुआ

जुलाई में रिकवरी रेट 78.6 से गिरकर 65.4 जा पहुंचा है, तो वहीं मृत्यु दर में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई। स्वास्थ विभाग का कंट्रोल एंड कमांड सेंटर भी कोरोना की चपेट में आ गया, जो सबसे ज्यादा सुरक्षित माना जा रहा था। अगर यही सुरक्षित नहीं तो बाकी जगह कहां तक सुरक्षित होंगे।

केंद्र का कोरोना की रफ्तार का फार्मूला फेल

केंद्र सरकार के एक फार्मूले के आधार पर राज्य स्वास्थ्य विभाग ने जून और जुलाई में मरीजों के मिलने की अनुमान लगाया था। 30 जुलाई तक प्रदेश में 3000 मरीजों के मिलने का अनुमान था, 2 जुलाई को यह आंकड़ा पहुंचा।

जुलाई के 31 दिनों में और 3 हजार मरीजों के मिलने का अनुमान था, मिले 6334 मरीज। यहां फार्मूला फेल हो गया। 30 अगस्त तक संक्रमितों की संख्या 20,000 पहुंचने के अनुमान हैं।

Whatsapp button

Youtube button

Source link