फ्लिपकार्ट को लगा झटका, इस मामले में लगा 42, 000 ₹ का जुर्माना

301

सिटी न्यूज़ रायपुर। इन दिनों ई कॉमर्स कंपनियों की बल्ले-बल्ले चल रही है। ग्राहक ज़्यादातर चीज़ें ऑफलाइन से ज़्यादा ऑनलाइन मार्किट से लेना पसंद कर रहे हैं। इनमें खासकर इलेक्ट्रॉनिक गुड्स की खासी डिमांड रहती है। ई कॉमर्स कम्पनी की रेस में फ्लिपकार्ट भी अपनी धाक जमाकर बैठा है मगर अब कुछ ऐसा हुआ है जिसकी वजह से फ्लिपकार्ट का सर शर्म से झुक गया है।

दरअसल बैंग्लोर के राजाजीनगर इलाके की निवासी दिव्यश्री जे ने फ्लिपकार्ट से एक स्मार्टफोन ऑर्डर किया था इस फ़ोन की कीमत 12,499 रुपये थी। हालांकि महिला को ऑर्डर हुआ फोन कभी डिलीवर नहीं हुआ। महिला ने स्मार्टफोन के लिए 12,499 रुपए का भुगतान एडवांस के रूप में पहले ही कर दिया था। 15 जनवरी 2022 को आर्डर हुआ स्मार्टफोन कभी इस महिला तक पहुंचा ही नहीं जबकि उसके अकाउंट से पैसे भी कट गए जिसका रिफंड नहीं आया।  देवाश्री की तरफ से फ्लिपकार्ट से कई बार प्रोडक्ट डिलीवरी को लेकर संपर्क किया गया। लेकिन इसके बावजूद फोन कभी ऑर्डर नहीं हुआ। इसके बाद देवाश्री ने ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के खिलाफ एक शिकायत करने का प्लान किया गया। इस मामले को लेकर पीड़ित महिला बैंग्लोर के शहरी जिला उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग पहुंची।

उपभोक्ता कोर्ट की तरफ से ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म फ्लिपकार्ट पर इस मामले में उसे दोषी पाते हुए उसपर 42,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है। आयोग ने बताया कि जब ग्राहक की तरफ से एडवांस में फुल पेमेंट कर दिया गया था, तो उसे प्रोडक्ट डिलीवर क्यों नहीं किया गया? ऐसे में आर्थिक दंड का प्रावधान भी बनता है। शिकायत के बाद एक आदेश में आयोग ने फ्लिपकार्ट को फोन की कीमत 12,499 रुपये देने का आदेश दिया गया। सात ही सालाना 12 फीसद ब्याज की दर से कुल 20,000 रुपये और 10,000 रुपये लीगल खर्च देने का फैसला सुनाया। इस तरह महिला को कुल 42,000 रुपये दिए गए।

बैंग्लोर कंज्यूमर कोर्ट ने फैसले में कहा कि फ्लिपकार्ट ने फोन डिलीवरी के मामले में न सिर्फ यूजर्स की डिलीवरी को नजरअंदाज किया, बल्कि अनएथिकल प्रैक्टिस को फॉलो किया गया। साथ ही कहा गया कि कंज्यूमर को आर्थिक तौर पर नुकसान उठाना पड़ा है। इसके अलावा मेंटल ट्रॉमा से गुजरना पड़ा है। बहरहाल इस मामले के बाद नामी-गिरामी कंपनियों के भी कान खड़े हो गए हैं और उम्मीद यही की जा रही है कि आगामी समय में वो पूरी ज़िम्मेदारी के साथ अपनी सर्विस दें।