बाबा बर्फानी की अमरनाथ यात्रा – राजधानी रायपुर से पहला जत्था आज होगा रवाना ; 30 जून से 11 अगस्त तक 42 दिनों तक होंगे, बाबा अमरनाथ के दर्शन…

469

रायपुर, कोरोना महामारी के दो साल बाद बाबा अमरनाथ की दुर्गम यात्रा 30 जून से शुरू होकर 11 अगस्त तक यानी 42 दिनों तक चलेगी। छत्तीसगढ़ के अलग-अलग शहरों से जत्था रवाना होगा। राजधानी से पहला जत्था 28 जून को जम्मूतवी एक्सप्रेस से रवाना होगा। अमरनाथ यात्रा सेवा समिति के अध्यक्ष गंगाप्रसाद यादव एवं ओम शिवशक्ति सेवा मंडल के अध्यक्ष अतुल भाई पटेल ने बताया कि पहला जत्था मंगलवार को दोपहर 12 बजे दुर्ग-जम्मूतवी एक्सप्रेस से रवाना होगा। समिति के नेतृत्व में पिछले 27 सालों से यात्रा निकाली जा रही है।

कोरोना महामारी में दो साल तक 2020 और 2021 में अमरनाथ यात्रा पर प्रतिबंध लगने से यात्रा नहीं निकाली गई थी। इस साल राजधानी से 100 से अधिक यात्री बाबा बर्फानी का दर्शन करने जा रहे हैं। राजधानी के अलावा जगदलपुर, धमतरी, कांकेर, बालोद, राजनांदगांव, दुर्ग, महासमुंद, बिलासपुर, कोरबा आदि शहरों से भी यात्री शामिल होंगे। प्रदेशभर से यात्री बाबा बर्फानी का दर्शन लाभ लेंगे।

तीन जुलाई को पवित्र गुफा में अमरनाथ का दर्शन

पिछले 25 सालों से यात्रा पर जा रहे गंगाप्रसाद यादव ने बताया कि 28 जून को राजधानी से निकलने वाली ट्रेन 29 जून की रात्रि जम्मू पहुंचेगी। छत्तीसगढ़ के यात्री 30 जून को जम्मू से रवाना होने वाले जत्थे में शामिल होंगे। सुबह वाहन से पहलगाम पहुंचकर विश्राम करेंगे। एक जुलाई को पहलगाम से चंदनबाड़ी होते हुए शेषनाग कैंप पहुंचेंगे।

दो जुलाई को सुबह शेषनाग कैंप से पंचतरणी कैंप पहुंचकर विश्राम करेंगे। तीन जुलाई को पंचतरणी से अमरनाथ गुफा पहुंचकर बाबा अमरनाथ का दर्शन करके विश्राम करेंगे। चार जुलाई को बाबा अमरनाथ गुफा से बांस टाल पहुंचेंगे। पांच जुलाई को बांसटाल से कटरा पहुंचकर माता वैष्णोदेवी के दर्शन करके विश्राम करेंगे। छह जुलाई को कटरा से निकलकर वापसी में स्वर्ण मंदिर, बाघा बार्डर, दिल्ली होते हुए श्रद्घालु सात जुलाई को वापस राजधानी पहुचेंगे।