गुरु पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण भारत में दिखाई न देने से नहीं लगेगा सूतक

29 june 2020,

City News – CN  City news logo

रायपुर।  साल 2020 के जून में लगातार दो ग्रहण का संयोग बना। पांच जून को पड़ा पहला चंद्रग्रहण दिखाई नहीं दिया और दूसरा सूर्यग्रहण 21 जून को पड़ा, जो देश भर में दिखाई दिया। अब पांच जुलाई को चंद्रग्रहण होगा।

यह ग्रहण दक्षिण एशिया के अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा। चूंकि यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा इसलिए इस ग्रहण का सूतक काल नहीं माना जाएगा। इसी दिन गुरु पूर्णिमा है, चंद्रग्रहण का असर न होने से गुरु पूर्णिमा श्रद्धाभाव से मनाई जाएगी।

अगला ग्रहण नवंबर-दिसंबर में

ज्योतिषाचार्य डॉ.दत्तात्रेय होस्केरे ने बताया कि साल 2020 में कुल छह ग्रहण का संयोग बना है। पहला ग्रहण 10 जनवरी को था, दूसरा 5 जून और तीसरा 21 जून को था। इसके बाद चौथा ग्रहण 5 जुलाई को, पांचवां ग्रहण 30 नवंबर और आखिरी छठा ग्रहण 14 दिसंबर को होगा। आखिरी दोनों ग्रहण भारत में दिखाई देंगे इसलिए उन ग्रहण का सूतक काल माना जाएगा।

गुरु पूर्णिमा को हुआ था महाभारत के रचयिता वेदव्यास का जन्म

छत्तीसगढ़ संत महासभा के अध्यक्ष स्वामी राजेश्वरानंद सरस्वती बताते हैं कि शास्त्रीय मान्यता के अनुसार महाभारत के रचयिता कृष्ण द्वैपायन व्यास (महर्षि वेद व्यास) का जन्म आषाढ़ की पूर्णिमा तिथि को हुआ था।

वेदव्यास को गुरुओं का गुरु कहा जाता है इसलिए उनकेजन्मोत्सव को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाने की परंपरा शुरू हुई। इस साल 5 जुलाई को आषाढ़ी पूर्णिमा पर गुरु पूर्णिमा उत्सव मनाया जाएगा।

‘गु’यानी अंधकार ‘रु’यानी निरोधक

‘गु’ शब्द का वास्तविक अर्थ होता है अंधकार और ‘रु’ का मतलब निरोधक। अर्थात जो अंधकार को दूर कर ज्ञान का प्रकाश फैलाता है उसे ही गुरु कहा गया है। गुरु अपने शिष्यों को हर संकट से बचाने के लिए प्रेरणा देते रहते हैं, इसलिए हमारे जीवन में गुरु का अत्यधिक महत्व है।

मंत्र जाप से मिलेगी सफलता

गुरु पूर्णिमा के दिन साक्षात गुरुदेव अथवा गुरु के छायाचित्र की पूजा-अर्चना करके गुरु मंत्र का जाप करना चाहिए। इस दिन मंत्रों का जाप करने से सफलता के द्वार खुलेंगे और बल बुद्धि में वृद्धि होगी।

कालसर्प दोष हो तो करें गुरु की पूजा

यदि किसी की कुंडली में काल सर्प दोष हो तो इससे छुटकारा पाने के लिए गुरु पूर्णिमा पर गुरु की पूजा करके आशीर्वाद ग्रहण करना चाहिए। इससे परिवार में सुख-समृद्धि बढ़ती है।

 ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए हमारे

   YOUTUBE चैनल को सब्सक्राइब करें  

           WHATSAPP   ग्रुप से जुड़ें          

Source link

Share on :