SALE 80% OFF| 100 मास्क | ऑफर सिर्फ इस हफ्ते तक | अभी खरीदें | सुरक्षित रहें

खुल गए है पार्क लेकिन बदहाल गार्डन में जाएं तो रखनी होगी ये सावधानी

18 june 2020

City News – CN      City news logo

रायपुरअनलॉक-1 में राजधानी के उद्यानों को खोल दिया गया है। लोग लगभग ढाई महीने बाद उद्यानों में पहुंचे तो नगर निगम की लापरवाही के कारण अलग ही नजारा देखने को मिला। लॉकडाउन में देखरेख के अभाव में उद्यानों में घास उग आई है।

ओपन जिम के उपकरण, फिसलपट्टी-झूले टूटे-फूटे बिखरे पड़े हैं। अन्य वर्षों में मानसून के आगमन के समय उद्यानों का नजारा आकर्षक दिखता था, जो इस वक्त गायब है। उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण के कारण शहर के उद्यानों को 24 मार्च से बंद कर दिया गया था।

इस माह खुलने पर लोग सैर करने के लिए सुबह-शाम पहुंच रहे हैं, लेकिन गुरु तेग बहादुर उद्यान, गांधी उद्यान, अनुपम गार्डन समेत अन्य छोटे-बड़े उद्यानों में अव्यवस्था का आलम है। निगम अभी शहर के सबसे पुराने गार्डन मोतीबाग को करोड़ों रुपये की लागत से संवार रहा है।

स्पॉट-1

जीई रोड में स्थित गुरु तेग बहादुर उद्यान में घास उग आई है। घास के कारण झूले के नीचे की सतह दिखाई नहीं दे रही है। झूले टूटे पड़े हैं। इस उद्यान में रोज सुबह करीब 50 लोग मॉर्निंगवॉक करने पहुंचते हैं। शाम को नियमित रूप से सैर पर जाने वालों की संख्या लगभग 30 होती है। निगम न तो सफाई पर ध्यान दे रहा है और न ही घास की कटाई-छंटाई पर।

स्पॉट- 2

गांधी उद्यान में फिसलपट्टी-झूले में छेद हो चुके हैं। इससे बच्चों को चोट लगने की आशंका है। ओपन जिम के उपकरण भी टूटे पड़े हैं। जगह-जगह बिजली के खंभों पर लगाए गए मीटर खुले पड़े हैं। बारिश में करंट फैलने का खतरा बना हुआ है। कोई भी इसका शिकार हो सकता है, लेकिन निगम का इस ओर ध्यान नहीं है।

घास की कटाई नहीं की गई है, जिससे लोगों को असुविधा हो रही है।अभी तक जोन से शिकायत नहीं आई है। मेटेंनेस का कार्य जोन कार्यालय के माध्यम होता है यदि गार्डन में घास की अधिकता हो गई होगी तो इसे शीघ्र ही काटने की व्यवस्था की जाएगी।

– हेमंत शर्मा, उद्यानिकी विभाग निगम

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए  – 

हमारे   FACEBOOK  पेज को   LIKE   करें

सिटी न्यूज़ के   Whatsapp   ग्रुप से जुड़ें

हमारे  YOUTUBE  चैनल को  subscribe  करें

Source link

Share on :