Home India news Chhattisgarh news

नवंबर से कोरोना की वैक्सीन बाजार में मिलने लगेगी…..भारत की इस कंपनी से 181 करोड़ में हुआ करार…. जानिये कीमत के बारे में क्या …..

Whatsapp button

 

दिल्ली। डॉ. रेड्डीज लैब ने भारत में कोरोना का 10 करोड़ टीका बेचने के लिए रूसी निर्माता रशियन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (RDIF) से करार किया है. यह टीका नवंबर तक भारत में आ सकता है. इस खबर के आने के बाद बीएसई पर डॉ. रेड्डीज का शेयर 181 रुपये की मजबूती के साथ 4624.45 पर पहुंच गया.

खबर के अनुसार RDIF ने रूस के स्पुतनिक वी वैक्सीन के भारत में क्लिनिकल ट्रायल और वितरण के लिए Dr. Reddy’s लेबारेटरीज से समझौता किया है. समझौते के अनुसार रूसी कंपनी भारत में Dr. Reddy’s को 10 करोड़ टीके की आपूर्ति करेगी. हालांकि इसकी कीमत कितनी होगी इसका अभी तक कंपनी की तरफ से कोई खुलासा नहीं किया गया है।

दवा कंपनी की तरफ से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि यह दवा गिलीड साइंसेज इंक (गिलीड) के साथ लाइसेंस व्यवस्था के तहत जारी की गई है। गिलीड ने डॉ. रेड्डी लेबोरेट्रीज को रेमडेसिविर के पंजीकरण, विनिर्माण और बिक्री का अधिकार दिया है। इस तरह के अधिकार भारत समेत 127 देशों में कोरोना के संभावित इलाज में काम आने वाली इस दवा के लिए दिए गए हैं।

भारत के दवा महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने रेमडेसिविर का इस्तेमाल देश में कोरोना के गंभीर लक्षण वाले अस्पताल में भर्ती मरीजों पर आपात स्थिति में करने की मंजूरी दी है। कंपनी ने कहा है, ‘डॉ. रेड्डीज की रेडायक्स 100 मिलीग्राम की छोटी शीशी में उपलब्ध होगी।’अभी पिछले महीने ही डॉ. रेड्डी लेबोरेट्रीज ने कोरोना की एक दवा लॉन्च की थी, जिसका नाम ‘एविगन’ (Avigan) रखा था।

कंपनी ने कहा था कि इस दवा का इस्तेमाल हल्के और मध्यम कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों पर किया जा सकेगा। डॉ. रेड्डी लेबोरेट्रीज ने ‘एविगन’ को 200 एमजी टैबलेट के रूप में और 122 टैबलेट के पैक में बाजार में उतारा था। कंपनी ने देश के 42 शहरों में इस दवा की फ्री होम डिलीवरी सेवा उपलब्ध कराने का भी दावा किया था।  हालांकि कंपनी ने दवाई की कीमत का खुलासा नहीं किया था।

 

Youtube button

 विज्ञापन के लिए संपर्क करें –  8889075555