बडी खबर : यूक्रेन से लौटे मेडिकल छात्र – रायपुर में बैठे धरने पर ; कहा-लड़ाई ने छुड़वाई पढ़ाई, अब हम सबका भविष्य अधर में…

520

रायपुर, छत्तीसगढ की राजधानी रायपुर में रविवार को यूक्रेन से लौटे छात्रों ने अपनी आवाज उठाई। बूढ़ा तालाब स्थित धरना स्थल पर यह सभी छात्र और पालक जमा हुए। सभी को अपने करियर की चिंता है। अधर में लटकी पढ़ाई अब आगे कैसे पढें ? इसी सवाल के साथ इन सभी ने विरोध प्रदर्शन किया।पालकों और छात्रों ने कहा कि हम सभी चाहते हैं कि हमारी पढ़ाई आगे बढ़ सके। यूक्रेन में युद्ध के हालात की वजह से मेडिकल की पढ़ाई आगे नहीं हो सकी। इसलिए अब यह सभी छत्तीसगढ़ के चिकित्सा संस्थानों में एडमिशन दिए जाने की मांग कर रहे हैं। दरअसल यूक्रेन में भारत से भी सस्ती दरों पर मेडिकल की पढ़ाई हो जाती है। अच्छी सुविधा होने की वजह से दुनिया भर के स्टूडेंट यूक्रेन जाते हैं। रायपुर , छत्तीसगढ़ से भी बहुत से स्टूडेंट गए हुए थे। रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से यह स्टूडेंट वापस लौट आए , इनकी पढ़ाई बीच में ही रुक गई।

स्वास्थ्य मंत्री से प्रदेश में ही एडमिशन दिलाने की मांग

छात्रों को उम्मीद थी कि कुछ वक्त बाद जब युद्ध थमेगा तो यह वापस लौट पाएंगे। मगर अब तक रूस और यूक्रेन के बीच जंग जारी है । माहौल शांत होता नहीं दिख रहा है। इसलिए इन छात्रों ने अब प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से प्रदेश में ही एडमिशन दिए जाने की मांग की है। रविवार को विरोध प्रदर्शन के दौरान छात्रों एवं पालकों ने प्रशासनिक अधिकारियों को अपना ज्ञापन सौंपा। फिलहाल इन्हें किसी तरह का कोई सकारात्मक आश्वासन प्रशासन या सरकार की ओर से नहीं मिला है। प्रदर्शशनकारियों ने कहा कि आगे भी हमारा यह विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा और हम तब तक संघर्ष करेंगे जब तक हमारी मांग पूरी नहीं हो जाती।