• City News 
  • Chhattisgarh 

छत्तीसगढ़ के डोंगरगांव में उस समय बवाल मच गया कोरोना से युवक की मौत के बाद जब शव को परिवार वालों ने देखा तो परिवार ने कहा कि मृतक की लाश से छेड़छाड़ किया गया है। दरअसल बवाल उस समय मचा जब अंतिम संस्कार के दौरान परिवार वालों को शव देखने की इजाजत दी गई।

डोंगरगढ़ निवासी मृतक के बॉडी से अंग निकाले जाने की आशंका व्यक्त करते हुए परिजनों ने मुक्तिधाम में ही हंगामा करना शुरू कर दिया। इसके चलते लगभग एक घंटे तक अंतिम संस्कार का कार्य रूक गया।

पुलिस व प्रशासन की समझाईश के बाद मामला शांत हुआ और तब जाकर अंतिम संस्कार किया गया।बता दें कि नगर के सेवताटोला वार्ड के एक युवक की तबियत बीते सप्ताह खराब हो गई थी, जिसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया गया था।

तबियत बिगडने के कारण मृतक को रायपुर मेकाहारा रेफर किया गया था, जहां वह कोरोना पॉजिटिव पाया गया। उपचार के दौरान शुक्रवार को उसका निधन हो गया, जिसका शव शनिवार दोपहर रायपुर से आने के पश्वात अंतिम संस्कार की कार्रवाई जारी थी।

यह भी पढ़ें – Gold and Silver price : बाजार में फिर गिरे सोने और चांदी के दाम…देखिये आज का रेट

इसी बीच मृतक के शव से खून निकलता देख युवक की पत्नी व उसके परिजनों ने मृतक के अंगों को निकाले जाने अथवा अन्य किसी प्रकार के छेड़छाड़ की आशंका व्यक्त कर शव को निरीक्षण किए जाने की मांग करने लगे।

शुरूवाती दौर में ही गाइडलाइन के अनुसार कोविड पॉजिटिव होने के कारण मृतक के शव को सेफ्टी किट से बाहर निकाला जाना संभव नहीं बताया गया, जिसके चलते विवाद और भी गहराने लगा था कि तभी स्वास्थ्य विभाग व पुलिस के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे।

यह भी पढ़ें – BREAKING : चैंबर चुनाव का ऐलान… पहली बार रायपुर से बाहर अन्य जिलों में भी होगा मतदान

जिनकी समझाइश व प्रथम दृष्टया अवलोकन उपरांत मृतक के नाक से रक्त स्त्राव पाए जाने पर मामला शांत हुआ। इस दौरान नपं अध्यक्ष हीरा निषाद, नायब तहसीलदार राजपूत, टीआई केपी मरकाम व उनकी टीम तथा स्वास्थ्य विभाग का अमला उपस्थित रहे।