शहर में त्योहार का असर कोरोना जांच पर पड़ रहा है। कोरोना जांच के लिए बनाए गए दर्जन भर से ज्यादा केंद्रों में लोग पहुंच ही नहीं रहे हैं।पहले 2400 से ज्यादा सैंपल हर दिन कलेक्ट हो रहे थे, वहीं अक्टूबर में एक हजार से आठ सौ तक संख्या पहुंच गई।

4 अक्टूबर को तो केवल 500 लोगों ने ही जांच करवायी थी। इस महीने 24 अक्टूबर तक रायपुर में 42 हजार सैंपलों की जांच हुई है, जबकि सितंबर के 30 दिन में 72 हजार और अगस्त के 31 दिन में 80 हजार सैंपलों की जांच की गई थी।

यह भी पढ़ें – पता नहीं रमन सिंह किस दुनिया में रहते हैं ; हम बड़े प्लांट नहीं लगाएंगे : सीएम भूपेश बघेल

अक्टूबर में अब तक 42 हजार से ज्यादा सैंपल में करीब 6,287 से पॉजिटिव मिले हैं। अब रविवार से एक बार फिर कोरोना जांच बढ़ाने की तैयारी की जा रही है।

इसके तहत शहर में पहले की तरह एक बार फिर नगर निगम कोरोना जांच और सैंपल कलेक्शन के लिए मोबाइल वैन को दौड़ाएगा। इस बार शहर में उन इलाकों में ये वैन जाएगी जहां बीते दिनों सामुदायिक सर्वे के दौरान सबसे ज्यादा संदिग्धों मिले हैं।इनमें वो क्षेत्र भी शामिल हैं जहां पहले भी अधिक संख्या में केस आते रहे हैं।

कालीबाड़ी के केंद्र पर इक्का दुक्का लोग ,हर दिन तीन सौ से कम सैंपल

कालीबाड़ी स्थिति कोरोना जांच केंद्र में बेहद कम संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। बीते एक हफ्ते से यहां प्रतिदिन केवल सौ से तीन सौ के बीच सैंपल लिए जा रहे हैं।

इसमें तीनों तरह के सैंपल हैं। जबकि सितंबर और अगस्त के महीने में जांच केंद्र बनने के बाद यहां बड़ी संख्या में लोग जांच करवाने के लिए पहुंच रहे थे।

यह भी पढ़ें – बीरगांव दशहरा आज – कोरोना के चलते रावण का कद गिरा : 75 फीट के बजाय आज 10 फीट का जलेगा रावण का पुतला…केवल दशहरा उत्सव समिति के लोग ही होंगे शामिल…!!

हेल्थ विभाग के मुताबिक कम सैंपल का ट्रेंड अभी दो चार दिन और देखने को मिल सकता है। क्योंकि ज्यादातर लोग इस दौरान त्योहार के मूड में रहेंगे। इसके बाद से फिर जांच के लिए लोग पहुंचेंगे।