समाज के अध्यक्ष पर गंभीर आरोप : दुष्कर्म पीड़िता बोली – समाज की बैठक में मामला वापस लेने का दबाव ; जान से मारने की दी धमकी

848

साल भर पूर्व बालिका से हुए सामूहिक दुष्कर्म मामले में पीड़िता ने रविवार को अंतागढ़ पहुंच कर बड़ा खुलासा करते अपने ही समाज के प्रदेश अध्यक्ष समेत कई लोगों पर गंभीर आराेप लगाए। पीड़िता ने कहा अंतागढ़ में हुई बैठक में उसे ठगी के मामले में जेल में बंंद सहदेव सोनवानी का केस वापस लेकर उसे छुड़ाने का दबाव बनाया गया।

ऐसा नहीं करने पर सबके सामने जान से मारने धमकी दी गई। कहा गया नहीं मानोगी तो फांसी में लटका देंगे। गाली गलौज की गई। खुलेआम इस तरह की धमकी मिलने से काफी दहशत में हूं। उसने शासन प्रशासन से सुरक्षा मुहैया कराने मांग की।

छत्तीसगढ़ में पिछड़ी जनजातियों को सरकारी नौकरी : 3 साल पहले हुआ था फैसला ; 9623 युवाओं के नियुक्ति का खुला रास्ता ; देखें पूरी जानकारी

भानुप्रतापपुर में 2021 में होली के दिन कांकेर पुलिस थाने में पदस्थ सब इंस्पेक्टर व उसके दो साथियों पर भानुप्रतापपुर में एक नाबालिग बालिका से दुष्कर्म का आरोप लगा था। इस मामले में सप्ताह भर पूर्व आरोपियों के बरी हाेने के बाद से समाज के सदस्यों में आपस में ही सौदेबाजी का आरोप लगा खींचतान मची है।

इसे लेकर बैठकों का दौर भी जारी है। भानुप्रतापपुर में हुई बैठक में समाज प्रमुखों व पीड़िता के नहीं आने पर कोसरिया गांडा समाज प्रदेश अध्यक्ष राजू टांडिया ने आरोप लगाया था कि आरोपियों के साथ पीड़िता व समाज के कुछ लोगों ने 40 लाख रुपए में डील की है।

इसे लेकर दोबारा 21 जून को अंतागढ़ में बैठक आयोजित की गई थी। यहां पीड़िता पहुंची तो उसके मुताबिक उसेे जान से मारने धमकी दी गई। पीड़िता ने बताया कि बैठक में प्रदेश अध्यक्ष व अन्य ने उसे 420 के मामले में जेल में बंद सहदेव सोनवानी को छुड़वाने दबाव बनाया।

गाली गलौच की गई। उसे भला बुरा कहने के साथ मारने की धमकी दी। कहा सहदेव साेनवानी को छुड़वाओगी तो ही समाज तुम्हारा साथ देगा। नहीं छुड़वाने पर समाज साथ नहीं देगा। उल्टे जान से मारने धमकी देते सहदेव सोनवानी के भतीजे गोलू सोनवानी ने कहा आते जाते जहां मिलेगी वहां रास्ते में मारकर फांसी में टांग देंगे।

इंजीनियरिंग स्टूडेंट की मौत ; गर्लफ्रेंड पर घरवालों को शक , पिता बोले-जब मेरे बेटे की मौत हुई वह लड़की साथ थी

सहदेव की पत्नी गीता के अलावा रवि कुलदीप, नरेंद्र कुलदीप समेत भानुप्रतापपुर व जनकपुर के अन्य भी जान से मारने की धमकी देते रहे। बैठक में इस तरह खुलेआम धमकी दी जाती रही। एक दो लोगों ने विरोध करने का प्रयास किया तो उन्हें भी डांट फटकार बैठा दिया गया।

पीड़िता ने कहा इस घटना के बाद उसे डर लगने लगा है। जान को खतरा है। उसके साथ कभी भी कुछ भी हो सकता है। पीड़िता ने उस पर लगे रुपए लेने के आरोप व धमकी के मामले को लेकर जांच व कार्रवाई के लिए अंतागढ़ थाना में आवेदन भी किया है।

आश्रय देने वाले सहदेव ने भी की थी छेड़छाड़…

पेशे से सरकारी शिक्षक सहदेव सोनवानी कोसरिया गांडा समाज भानुप्रतापपुर ब्लाॅक अध्यक्ष ने पीड़िता को सुरक्षा के मद्देनजर अपने घर पर रखा था। इसी दौरान उसे मिली क्षतिपूर्ति रकम में हेराफेरी के आरोप में उसे जेल भेज दिया गया है। रविवार को ही पीड़िता ने खुलासा करते बताया सहदेव सोनवानी ने भी उससे छेड़छाड़ की थी, जिसकी शिकायत भी उसने पुलिस में की है।