रिटायर आरडीए अफसर से 89 लाख ठगने वाला गिरफ्तार; ठगी के लिए बना सीए

490

रायपुर, फर्जी ट्रेडिंग कंपनी बनाकर लाखों का प्रॉफिट देने का झांसा देने वाले अंतरराज्यीय ठग को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। राजधानी के एक बुजुर्ग रिटायर अफसर से 89 लाख रुपए की ठगी हुई थी। आरोपी ने उन्हें पहले एक-दो बार दोगुना मुनाफा दिया। इसके बाद करोड़ों का मुनाफा देने का झांसा दिया। फिर रकम लेकर फरार हो गया। आरोपी को कोलकाता से गिरफ्तार किया गया है। उसके पास से कई आधार और पेन कार्ड भी जब्त किए गए हैं।

इस पूरे मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि पोस्ट आफिस रोड बैरन बाजार में रहने वाले रायपुर विकास प्राधिकरण से रिटायर रविशंकर दीक्षित की पहचान उनकी परिचित महिला के माध्यम से दयानिधि पति से हुई। दयानिधि ने खुद को ट्रेडिंग कंपनी में काम करने वाला बताया।

उसका दावा था कि बेहद कम समय में वो दोगुना मुनाफा दिलाता है। दयानिधि ने 2021 में जनवरी से फरवरी तक बुजुर्ग से 5 लाख रुपए लिए और कुछ ही हफ्तों में 2 लाख रुपए का मुनाफा देकर 7 लाख वापस किए। फिर बड़ा मुनाफा देने का वादा करके बुजुर्ग को बताया कि अभी बाजार में तेजी है।

ज्यादा रकम लगाएंगे तो ज्यादा मुनाफा मिलेगा। बुजुर्ग झांसे में आ गए और केवल 3 महीने में ही अलग-अलग किस्तों में 89 लाख रुपए दे दिए। कुछ समय तक जब कोई रकम वापस नहीं हुई तो बुजुर्ग ने दयानिधि से रकम वापस मांगी। कई बार मांगने के बाद आरोपी ने अलग-अलग तारीखों में अलग-अलग बैंकों के चेक दे दिए। चेक को जब बैंकों में लगाया गया तो सभी चेक बाउंस हो गए। इसके बाद बुजुर्ग को धोखाधड़ी का एहसास हुआ। उन्होंने इसकी एफआईआर कोतवाली थाने में दर्ज कराई थी।

ओडिशा में जाकर किराए का मकान लिया, लेकिन कुछ दिनों बाद वहां से चला गया

पुलिस टीम ने सबसे पहले उसके सभी दस्तावेजों की जांच की। चेक बाउंस होने के पहले ही आरोपी दयानिधि फरार हो गया था। पुलिस ने उसके मोबाइल नंबर की डिटेल निकाली। उसके संपर्कों का पता किया। जांच के दौरान उन सभी बैंक खातों की भी जानकारी ली गई, जिसमें रकम का ट्रांजेक्शन हुआ।

बस कर्मचारियों से कई महीनों में की वसूली
दयानिधि के खिलाफ नागपुर के थाना अंजनी में भी धोखाधड़ी का केस दर्ज है। वहां पर उसने नागपुर बस डिपो में काम करने वाले कर्मचारियों को तगड़ा मुनाफा देने का झांसा देकर 40 लाख रुपए की ठगी की थी। उसमें मुंबई में भी कुछ लोगों से लाखों की ठगी की थी। उसके पास से आधार और पेन कार्ड भी जब्त हुआ है।

होटलों में रुकता, पुलिस से बचने मोबाइल में नहीं करता था बात
एडिशनल एसपी अभिषेक माहेश्वरी ने बताया कि लोगों को ठगने वाला दयानिधि काफी शातिर था। पुलिस से बचने के लिए वो कहीं भी स्थायी तौर पर नहीं रहता था। कोलकाता, ओडिशा और मुंबई में वो महंगे होटलों में रुकता था। पुलिस को चकमा देने के लिए मोबाइल का भी उपयोग नहीं करता था।