ये है दुनिया की 7 सबसे स्ट्रॉन्ग शराब, नीट पीने पर हो सकती है मौत, एक पर तो लिखी है दर्जन भर से ज्यादा चेतावनियां

677

देश और दुनिया में शराब शौकीन लोगों की कमी नहीं है। दुनिया के सभी देशो में अलग-अलग पकार की शारब भी मिलती है। इनमे कई शराब ऐसी है जो पीने में बहुत ही बेहतरीन होती है और कई शराब ऐसी है जिनकी बोतलो पर वार्निंग छपी होती है। इस शराब को नीट पीना भी मना है। आज हम आपको दुनिया की सात सबसे स्ट्रॉन्ग शराब के बारें में बताने वाले है। इस शराब को आप नीट नहीं पी सकते।

बता दें कि, दुनिया में कुछ ऐसी वाइन हैं जिनकी ABV (वॉल्यूम के हिसाब से अल्कोहल) 80% या 90% से ज्यादा है। ये अल्कोहल से भरपूर पेय हैं जो अगर आप उन्हें अच्छी तरह से याद करते हैं तो आपकी जान ले सकते हैं। दुनिया भर में ऐसे डिस्टिलर हैं जो अपने अल्कोहल प्रतिशत के लिए जाने जाते हैं। वाइन, वोदका, व्हिस्की, रम, चिरायता और शैंपेन में भी अलग-अलग मात्रा में अल्कोहल होता है।

बीयर में 4-8% और अन्य अल्कोहल 40% तक होते हैं। भारत में आमतौर पर 50 प्रतिशत से अधिक स्ट्रेंथ वाले पेय उपलब्ध नहीं होते हैं। लेकिन यहां हम आपको कुछ ऐसी ड्रिंक्स के बारे में बताएंगे जिन्हें पीना सख्त मना है। एक घूंट लोगों की जान ले सकता है। खास बात यह है कि इन बोतलों पर एक दर्जन चेतावनियां लिखी हुई हैं। ये बाजार में आसानी से उपलब्ध नहीं होते हैं और इन्हें आयात भी नहीं किया जा सकता है। इससे पता चलता है कि यह कितना खतरनाक है। इस शराब का इस्तेमाल हमेशा कॉकटेल ड्रिंक्स के लिए किया जाता है। इसे सिर्फ जूस आदि में मिलाकर आसानी से गले से नीचे उतारा जा सकता है। इसके अलावा, इस शराब का उपयोग औषधीय प्रयोजनों के लिए भी किया जाता है।

बता दें कि भारत में मादक पेय पदार्थों की ताकत को मापने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली इकाई ‘प्रतिशत इथेनॉल मात्रा’ या% v/v है। भारत में बिकने वाली शराब की बोतलों पर शराब का प्रतिशत 42.8% VV बताया गया है। यानी इसमें 42.8% अल्कोहल होता है। वहीं, अमेरिका में शराब की तीव्रता को प्रूफ में मापा जाता है। %VV में तीव्रता आमतौर पर साक्ष्य से आधी होती है। यानी 100 सबूत यानी 50% वी/वी ताकत। तो आइए जानते हैं दुनिया की उन 7 वाइन के बारे में जिनमें अल्कोहल की मात्रा अधिक होती है और जिन्हें आराम से पीने से मना किया जाता है।

पोलैंड के इस वोडका का नाम Polmos Spiritus Rectificowny है। इसमें 96 प्रतिशत अल्कोहल होता है। इसका उपयोग औषधीय प्रयोजनों के लिए या अन्य कॉकटेल या पेय के लिए आधार भावना के रूप में किया जाता है। यह सबसे मजबूत वोदका है।

खतरनाक मादक पेय एवरक्लियर 190: स्वीटकॉर्न से बने इस अमेरिकी स्पिरिट में 95 प्रतिशत अल्कोहल होता है। शराब की अधिकता के कारण इसे कई अमेरिकी राज्यों में प्रतिबंधित भी किया गया है। इसकी बोतल पर कई चेतावनियां भी छपी होती हैं। उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज हो चुका है। इसका उपयोग जीवाणुरोधी या रूम स्प्रे के रूप में भी किया जाता है।