ड्रग्स लेने से मना करते थे इसलिए 19 साल के बेटे ने मां-बहन को चाकू से गोद कर मार डाला; SECL कर्मचारी का बेटा गिरफ्तार

713

बिलासपुर, छत्तीसगढ़ के कोरबा में SECL कर्मचारी की पत्नी और उसकी 21 साल की बेटी की शुक्रवार को हत्या कर दी गई। पुलिस ने इस मामले में कर्मचारी के ही 19 साल के बेटे अमन को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि दोनों उसे ड्रग्स लेने से रोकते थे। इसलिए उसने चाकू से दोनों की हत्या कर दी है। पुलिस को मां-बेटी के शव बाथरूम में खून से लथपथ मिले थे। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस ने मकान को सील कर दिया है।

मामला कुसमुंडा थाना क्षेत्र का है। जानकारी के मुताबिक, आरके दास SECL की कुसमुंडा स्थित खदान में कार्यरत हैं और आदर्श नगर DMQ क्वार्टर में रहते हैं। उनकी सुबह की शिफ्ट चल रही है। ऐसे में वह रोज की तरह सुबह करीब 5-6 बजे दफ्तर चले गए। बताया जा रहा है कि वह दोपहर करीब 1.30 बजे घर लौटे तो देखा कि दरवाजा पूरा खुला हुआ है। इस पर वे अंदर गए और आवाज दी, पर कोई जवाब नहीं मिला। जब दास आंगन से होते हुए बाथरूम की ओर गए तो वहां पत्नी लक्ष्मी दास (50) और बेटी आंचल (21) की खून से लथपथ लाश पड़ी थी।

इसके बाद दास ने पुलिस को सूचना दी। डबल मर्डर की जानकारी पर थोड़ी ही देर में पुलिस पहुंच गई। धारदार हथियार से बड़ी बेरहमी के साथ दोनों की हत्या की गई है। शरीर पर जगह-जगह घाव के निशान हैं। इस पर पुलिस ने फॉरेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड को मौके पर बुलाया। पुलिस के आने के बाद कुछ देर बाद दास का बेटा अमन भी पहुंच गया। उसके हाथ में पट्‌टी बंधी हुई थी। उसे देखते ही डॉग स्क्वायड के डॉग ने उस पर छलांग लगा दी।

संदेह के आधार पर पुलिस ने उससे पूछताछ शुरू की। इस पर वह घबरा गया। बताया जा रहा है कि आरोपी लड़के ने पहले बाथरूम में नहा रही अपनी बहन पर चाकू से हमला किया। उसकी चीख सुनकर मां पहुंची तो उन पर भी चाकू से कई वार किए। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। इस दौरान आरोपी के हाथ में भी चोटें आईं। वहां से भागकर वह अस्पताल गया और ड्रेसिंग कराई। इसके बाद घूमता रहा। पुलिस पहुंचने के बाद वह भी घर पहुंचा।

पुलिस ने बताया कि लड़के से पूछताछ की जा रही है। तलाशी के दौरान उसकी जेब से अलग-अलग तरह का नशा मिला है। पूछताछ में पता चला है कि वह हर तरह के नशे का आदी है। उसकी गतिविधियां शुरू से संदिग्ध लग रही थीं। इसके चलते उस पर शक हुआ। हाथ में बैंडेज बंधे होने के कारण भी शक बढ़ गया। पूछताछ में हत्या की बात स्वीकार की है। आरोपी अमन ने बताया कि उसकी मां और बहन दोनों उसे नशा करने से रोकते थे, इसलिए उसने दोनों को मार दिया।