कलेक्टर रानू साहू की मां के घर ईडी का छापा, पांच घंटे से चल रही कार्रवाई…

752

छत्तीसगढ़ में IAS अफसर समीर विश्नोई सहित दो कोल व्यापारियों की गिरफ्तारी के बाद अब ईडी का शिकंजा रायगढ़ कलेक्टर रानू साहू पर कसता जा रहा है। उनके सरकारी बंगले में कार्रवाई के बाद अब मंगलवार सुबह टीम उनके पैतृक निवास गरियाबंद पहुंच गई है। यहां टीम ने उनकी मां व जिला पंचायत सदस्य लक्ष्मी साहू और चचेरे भाई शैलेंद्र साहू के घर पर छापा मारा है। करीब पांच घंटे से ज्यादा समय से दोनों जगहों पर जांच जारी है। लक्ष्मी साहू और शैलेंद्र साहू दोनों ही कांग्रेस नेता हैं.

दोनों के घरों से खंगाले जा रहे दस्तावेज
जानकारी के मुताबिक, रायगढ़ कलेक्टर रानू साहू के पैतृक गांव राजिम के पांडुका में ईडी की टीम तड़के करीब 5.30 पहुंची। CRPF जवानों के साथ पहुंची टीम ने जिला पंचायत सदस्य लक्ष्मी साहू और शैलेंद्र साहू के ठिकानों पर एक साथ दबिश दी है। सूत्रों के मुताबिक, इसके बाद से दोनों के घरों में दस्तावेज खंगाले जा रहे हैं। घर के गेट को बंद कर दिया गया है और CRPF जवानों ने अपने कब्जे में ले रखा है। इस दौरान किसी को भी अंदर जाने और बाहर आने नहीं दिया जा रहा है.

रायगढ़ कलेक्टर रानू साहू ईडी के छापे के दौरान बाहर थीं। लौटने के बाद उन्होंने जांच अधिकारी को जानकारी दी। इस दौरान ईडी ने उनके बंगले को सील कर दिया था। कलेक्टर रानू साहू के लौटने पर चार दिन पहले उनकी मौजूदगी में ही बंगले की तलाशी शुरू की गई। इसके साथ ही कलेक्टर परिसर स्थित खनिज विभाग में भी दस्तावेज खंगाले गए। इस दौरान कोरबा में भी टीम ने आदिवासी विकास विभाग आयुक्त के दफ्तर में भी दबिश दी थी। उनकी तैनाती के समय के दस्तावेज जांच की गई.

अभी तक चली कार्रवाई के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम ने 14 अक्तूबर को वसूली रैकेट का खुलासा किया था। ईडी ने बताया था कि जांच में राज्य में परिवहन किए गए प्रत्येक टन कोयले से 25 रुपये प्रति टन की अवैध वसूली की जा रही है। इस घोटाले में मुख्य सरगना सूर्यकांत तिवारी को बताया गया। इसके बाद से कारोबारी सूर्यकांत तिवारी फरार है। वहीं ईडी ने आईएएस समीर विश्नोई के मकान से चार किलो सोना, हीरा और कैश बरामद किया था। टीम अभी तक 4.5 करोड़ रुपए, सोने के आभूषण और करीब दो करोड़ रुपए मूल्य के अन्य सामान जब्त कर चुकी है.