• City News Chhattisgarh
  • Crime News

रायपुर। बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह जैसा सनसनीखेज मामला छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में भी सामने आया है। कोर्ट में दिए बयान में युवतियों व महिला ने नशे की दवा देकर बलात्कार व छेड़छाड़ का आरोप उज्ज्वला होम बिलासपुर के संचालक जितेंद्र मौर्य पर लगाया है।

संचालक मौर्य के विरुद्ध गंभीर प्रकृति की शिकायत पर सरकंडा पुलिस ने गुरुवार को उसे गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि उज्ज्वला गृह बिलासपुर का संचालन एनजीओ श्री शिवमंगल शिक्षण समिति वर्ष 2014 से कर रही है।

Big breaking : घूसखोरी मामले में सीबीआई के डीएसपी और निरीक्षक गिरफ्तार

17 जनवरी की रात में संस्था में निवासरत 3 युवतियों-महिलाओं एवं संस्था संचालक ने एक-दूसरे के विरुद्ध सरकंडा थाने में शिकायत दर्ज कराई थी।

इस घटनाक्रम की जांच संचालक महिला बाल विकास, संयुक्त संचालक महिला बाल विकास एवं सहायक संचालक महिला बाल विकास ने की।

महिलाओं द्वारा संस्था संचालक एवं संस्था के कर्मचारियों के विरुद्ध की गई शिकायत गंभीर प्रवृत्ति की होने के कारण उच्चाधिकारियों ने संस्था में निवासरत शेष 7 महिलाओं को उनके परिजन एवं अन्य संस्था में स्थानांतरित किया गया है।

बड़ी खबर : छत्तीसगढ़ के इस जिले में हुई एवियन फ्लू की पुष्टि

इसके साथ ही वर्तमान में संस्था में किसी भी महिला के रहने पर रोक लगा दी गई है। थाना सरकंडा में पीडि़तों की रिपोर्ट पर उज्ज्वला होम के स्टाफ द्वारा जबरदस्ती वहां रखे जाने, मारपीट करने इत्यादि के आरोप पर अपराध क्रमांक 79/21 धारा 342, 294, 323 आईपीसी की एफआईआर दर्ज कर विवेचना प्रारंभ की गई थी।

चार महिलाओं का गुरुवार को कोर्ट में 164 का बयान दर्ज कराया गया। बयान में धारा 376 और 354 आईपीसी के कंटेंट आने पर जितेंद्र मौर्य के खिलाफ धाराएं जोड़कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। विवेचना जारी है।