Corona Update : रायपुर में मिले सबसे ज्‍यादा केस ; छत्‍तीसगढ़ में 983 एक्टिव केस ; 24 घंटे में मिले इतने संक्रमित ; देखें पूरी जानकारी

778
  • City news Raipur
  • Chhattisgarh corona update

राजधानी में 35 समेत राज्य भर में कोरोना के 129 नए केस मिले हैं। वहीं, एक व्यक्ति की मौत हुई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, बलौदाबाजार में 16, दुर्ग में 15, मुंगेली में सात, राजनांदगांव में 17, बेमेतरा व कबीरधाम में छह-छह मरीज मिले हैं। राज्य में 12,581 कोरोना सैंपल जांचे गए हैं। इसमें पाजिटिविटी दर 1.03 प्रतिशत रही।

सक्रिय मरीजों की बात करें तो रायपुर में सर्वाधिक 258 और दुर्ग में 193 केस है। प्रदेश भर में 983 मरीजों का इलाज चल रहा है। राज्य कोरोना नियंत्रण अभियान के नोडल अधिकारी डाक्टर सुभाष मिश्रा ने बताया कि संक्रमितों की पहचान के लिए सैेंपल जांच की संख्या बढ़ाई जा रही है, जिन्हें भी लक्षण हैं वह केंद्रों में जाकर निश्शुल्क करा सकते हैं।

यह भी पढ़ें – झूठे आरोप में पुलिस ने मुझे नंगा करके उल्टा लटकाया ; प्राइवेट पार्ट पर लगाए करंट ; आरोप था कि मैंने आतंकियों की मदद की ; जो झूठ निकला

कोरोना का प्रभाव रोकने प्रशासन ने भी कसी कमर

कोई भी पात्र महिला या पुरुष सामाजिक सुरक्षा पेंशन से वंचित न रहे, सभी को लाभ मिलना चाहिए। लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए जांच और ट्रेसिंग में तेजी लाई जाए। यह निर्देश कलेक्टर डा. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने अधिकारियों को दिए। डा. भुरे ने शनिवार को छह विभागों की समीक्षा बैठक ली।

अधिकारियों को जिले में दौरा कर अपने- अपने विभाग की योजनाओं की जमीनी हकीकत जानने और उनके बेहतर क्रियान्वयन के निर्देश दिए। वहीं बारिश में जलभराव और मौसमी बीमारियों की रोकथाम की तैयारी करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें – Crime news : दुर्ग में 4 साल की बच्ची का रेप ; चॉकलेट खिलाने के बहाने ले गया ; मां-बाप को रोते हुए मिली मासूम तो पता चला मामला

औसतन 80 प्रतिशत पासिंग रिजल्ट का लक्ष्य निर्धारित

स्कूल शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने 10वीं-12वीं के पिछले तीन वर्ष के परिणाम की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि इस वर्ष जिले में दोनों कक्षाओं में औसतन 80 प्रतिशत पासिंग का लक्ष्य निर्धारित कर सभी तैयारियां करें। साथ ही इन कक्षाओं की टेस्ट की जिला स्तर पर मानिटरिंग की व्यवस्था करने को भी कहा। डा. भुरे ने बाल संप्रेक्षण गृहों में 18 साल या उससे अधिक उम्र के युवाओं को तत्काल जेल में शिफ्ट करने के निर्देश दिए।