सिटी न्यूज रायपुर —

  • Corona Vaccine Updates

कोरोना का कहर पुरे देश में तांडव कर रहा है अब तक के सारे रिकार्ड तोडते हुवे आज देश में कोरोना संक्रमितों का आंकडा एक लाख पार कर दिया है , छत्तीसगढ में भी पांच हजार से उपर नये मरीज मिले हैं एैसे में कोरोना से बचाव व रोकथाम के लिये मास्क , सोशल डिस्टेंस और वैक्सीनेशन ही एकमात्र उपाय है , पुरे देश भर में कोरोना के रोकथाम के लिये टीका लगाया जा रहा है। Corona Vaccine Updates

रायपुर सहित पुरे छत्तीसगढ में भी रिकार्ड  वैक्सीनेशन हो रहा है,  एक ओर जहां लोगों में वैक्सीनेशन को लेकर भारी उत्साह है तो वहीं दुसरी ओर कुछ लोग वैक्सीनेशन के नाम पर भ्रम फैला रहे हैं , यह कहकर लोगों में भय पैदा कर रहे है कि वैक्सीन / टीका लगवाने से कोरोना और बढता है, इस अफवाह के कारण कुछ लोग अभी भी भ्रमित है और वैक्सीन यानि टीका लगवाने से डर रहे हैं  !!Corona Vaccine Updates

इस भ्रम को दूर करते हुवे राजधानी रायपुर के सबसे बडे और प्रसिद्ध  कैंसर हॉस्पीटल “संजीवनी कैंसर हॉस्पीटल” दावडा कॉलोनी रायपुर  के  आंकोलॉजिस्ट डा. सतीश देवांगन ने कोरोनावायरस वैक्सीन इंजेक्शन के बारे में स्पष्ट करते हुवे बोलचाल की भाषा में समझाया कि कोरोनावायरस वैक्सीन इंजेक्शन एक प्रकार का वैसा ही टीका है जैसे हम अपने बच्चों को शिशुकाल में बीसीजी और खसरा का टीका लगवाते है तब उन बच्चों को भी हल्का बुखार आता है और जिन बच्चों को टीका लग जाता है उसके बाद मीजल्स खसरा या टीबी जैसे घातक बिमारी से उन्हें जीवनभर के लिये मुक्ति मिल जाती है उसी प्रकार यह कोरोनावायरस का टीका है जिसे लगवाने से हमें हल्का बुखार आ सकता है लेकिन चिंता करने की जरूरत नही है !

डा. सतीश देवांगन ने हमारे रिपोर्टर के  इस गंभीर सवाल का जवाब देते हुवे कहा कि कोरोनावायरस का वैक्सीन लगवा लेने के बाद भी हमें “कोरोना” क्यों हो जाता है,, इस सवाल पर डा. सतीश ने कहा कि लोगों को वैक्सीन के बारे में जागरूक होने और समझने की जरूरत है, कोरोना का वैक्सीन लगवाने के बाद भी हमें ”कोरोना” इसलिये हो जाता है कि कोरोना का वैक्सीन हमारे शरीर में केवल ( एंटीबॉडी ) रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढाता है, लेकिन कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से संक्रमण को हमारे शरीर में प्रवेश करने के रास्ते मुंह और नाक को बंद नही कर सकता, यही कारण है कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आने से लोग कोरोना पॉजीटिव हो जाते है। 

कुछ लोग वैक्सीनेशन के बाद भी कोरोना के रोकथाम हेतु बनाये गये नियमों का पालन नही करते, एैसा करके वो खुद के और अपने परिजनों के जान को भी खतरे में डाल देते हैं , कुछ लोग कोरोना के वायरस को खुद आंमत्रण देते है – कोरोना के वायरस को अपने शरीर में प्रवेश करने का रास्ता खुला छोड देते हैं , मॉस्क नही पहनने और लोगों से दूरी भी नही रखने ,,  बाहर ठेला, होटल में चाय, पानी, नास्ता या भोजन संक्रमित बर्तन से ग्रहण करने से या एैसे ही अनेक कारणों से जब कोविड का वायरस हमारे नाक और मुंह के रास्ते शरीर में पहुंच जाता है तब हम “कोरोना पाजीटिव”  हो जाते हैं  !

लेकिन खुशी की बात यह है कि यदि हम कोरोनावायरस का वैक्सीन लगवा चुके हैं तो हमारे शरीर में मौजूद वैक्सीन वाला इम्युन वायरस और कोविड वायरस में शरीर के भीतर जबरदस्त फाइट होता है और बहुत जल्द वैक्सीन / टीका लगवाया हुवा वह व्यक्ति यह फाइट आसानी से जीत जाता है, और कोविड समाप्त हो जाता है,,  इस फाइट वाले पुरे प्रक्रिया में हल्का बुखार, बदन दर्द और कोरोना के लक्षण सामने आते हैं और  रिपोर्ट भी पॉजीटिव आ जाता है ,

डा. सतीश देवांगन ने लोगों से अपील करते हुवे कहा कि कोरोना को विश्व से समाप्त करने कोरोना वैक्सीन / टीका जरूर लगवायें और कोरोना के वायरस को शरीर में प्रवेश से रोकने हमें घर से बाहर निकलने पर सर्टिफाइड मास्क और एक – दूसरे से दो गज की दूरी बनाये रखना बहुत ही आवश्यक है ,, इसिलिये बार बार  कहते है कि कोरोना का वैक्सीन / टीका लगवाने के बाद भी मास्क पहनना और दूरी मैंटेन करना अनिवार्य है , डा. सतीश देवांगन ने बताया कि वैक्सीनेशन / टीका लगवाने का सबसे बडा फायदा यह है कि कोरोना संक्रमित हो जाने के बाद भी जल्द दवाई लेने से “जान का खतरा”  रिस्क कम हो जाता है  !!

प्रदेश के कई वैक्सीन सेंटरों में खत्म हुआ कोरोना वैक्सीन, रुकी टीकाकरण की प्रक्रिया…