• City News Chhattisgarh 
  • Raipur News 

एक तरफ पूरे देश में विशेषज्ञ इस बात पर जोर दे रहे हैं कि एंटीजन और रैपिड के बजाय पुख्ता कोरोना जांच बढ़ाई जानी चाहिए

एक तरफ पूरे देश में विशेषज्ञ इस बात पर जोर दे रहे हैं कि एंटीजन और रैपिड के बजाय पुख्ता कोरोना जांच बढ़ाई जानी चाहिए, तो दूसरी तरफ राजधानी का ये हाल है कि पुख्ता मानी जाने वाली आरटीपीसीआर जांच कोरोना के दो दर्जन से ज्यादा जांच केंद्रों में से अधिकांश में शून्य पर पहुंच गई है। सिर्फ आरटीपीसीआर ही नहीं, पिछले कुछ दिन से एंटीजन टेस्ट भी कम हुए हैं। इसके लिए सरकारी एजेंसियों ने ई-रिक्शे निकाले थे, लेकिन इसमें भी जांच की सख्ता लक्ष्य की आधी से भी कम है।

सावधान : ब्रेकर पर रफ्तार कम होते ही पीछे से स्कार्पियो ने मारी टक्कर ; 4 लोग घायल

हालांकि तस्वीर का दूसरा पहलू यह भी है कि कालीबाड़ी अस्पताल और जीई रोड ऑडिटोरियम जैसी जगहों पर लोग कोरोना जांच के लिए अच्छी संख्या में अब भी पहुंच रहे हैं। शहर को कोरोना जांच के लिए दिए टारगेट का बड़ा हिस्सा इनसे ही पूरा हो रहा है। लोगों को उनके नजदीकी जगह पर कोरोना जांच की सुविधा मिल सके इसके लिए शहर में गुढियारी, भनपुरी, चंगोराभाटा, मोवा,खोखरापारा, लाभांडी, राजातालाब, काशीराम नगर, बोरियाकला,रामनगर समेत 18 स्वास्थ्य केंद्रों में कोरोना जांच केंद्र बनाए चार महीने से ज्यादा का वक्त बीत चुका है।

नवंबर माह के अंतिम हफ्ते और दिसंबर की शुरूआत में इन केंद्रों में लोग जांच के लिए जा ही नहीं रहे हैं। सभी केंद्रों को हर दिन दस आरटीपीसीआर टेस्ट करने का लक्ष्य भी दिया गया है। लेकिन 18 में बामुश्किल पांच से दस आरटीपीसीआर टेस्ट ही हो पा रहे हैं। हालांकि इस दौरान प्राइवेट अस्पतालों में आरटीपीसीआर टेस्ट डेढ़ सौ से दो सौ के बीच रोजाना हो रहे हैं। दस जोन में कोरोना जांच के लिए घुमाए जा रहे ईरिक्शों में भी दिए गए टारगेट से बेहद कम टेस्ट हो रहे हैं।

छत्तीसगढ़: नेशनल हाईवे में भीषण सड़क हादसा, खड़े ट्रक से टकराई कार, शादी समारोह से लौट रहे परिवार के 4 सदस्यों की दर्दनाक मौत

एंटीजन का लक्ष्य भी आधे से कम…

एंटीजन जांच के लिए नगर निगम रायपुर के दस जोन में दस ईरिक्शे भी घुमाए जा रहे हैं। इन रिक्शों के जरिए रोजाना एंटीजन, आरटीपीसीआर सैंपल कलेक्शन मिलाकर करीब तीन सौ टेस्ट होने हैं। लेकिन एंटीजन के 200 से अधिक के टारगेट के मुकाबले औसतन सौ से भी कम टेस्ट हो रहे हैं। यानी लक्ष्य से आधे से कम अचीव हो रहा है। प्राइवेट अस्पतालों में हर दिन डेढ़ सौ से दो सौ कभी कभी ढ़ाई सौ के बीच हो रहे हैं।

कालीबाड़ी में ही टारगेट के बराबर…

एंटीजन टेस्ट के जरिए कम समय में कोरोना संदिग्धों की पहचान के लिए कालीबाड़ी जिला अस्पताल, टीबी अस्पताल और जीई रोड में साइंस कॉलेज कैंपस के ऑडिटोरियम में जांच के लिए लोग अधिक मात्रा में पहुंच रहे हैं। तकरीबन चार सौ टेस्ट रोजाना का लक्ष्य इन तीन केंद्रों के लिए तय किया गया है। जिसमें औसतन हर दिन लक्ष्य तीन सौ से साढ़े तीन सौ के बीच यहां से हासिल हो रहा है। इन तीनों को हर दिन 175 आरटीपीसीआर टेस्ट करने के लिए भी कहा गया है। इसके मुकाबले टारगेट से ज्यादा 180 से 200 के बीच आरटीपीसीआर जांच इनसे हो रही है।