• 04 AUGUST 2020
  • City news – Chhattisgarh

Whatsapp button

लॉकडाउन लगा हुआ है। इन सबके बावजूद लोगों में कोरोना महामारी को लेकर कोई डर-भय नहीं है। स्थिति यह है कि कंटेनमेंट जोन में लोग मिलजुल रहे हैं। घर की छत से ही नहीं बल्कि सड़क पर निकलकर पतंग उड़ा रहे हैं।

 

रायपुर. प्रदेश की राजधानी रायपुर कोरोना का हॉट स्पॉट बना हुआ है। जहां 18 मार्च को कोरोना का पहला मरीज मिला, 31 मई तक सिर्फ 15 मरीजों की रिपोर्ट थी और 30 जून तक संख्या 324 तक पहुंची । वहीं 2 अगस्त तक संक्रमित मरीजों की संख्या 3,113 और इनमें से 1,267 एक्टिव मरीज हैं। अब तक यहां 29 लोगों की जान चुकी है। लॉकडाउन लगा हुआ है। इन सबके बावजूद लोगों में कोरोना महामारी को लेकर कोई डर-भय नहीं है। स्थिति यह है कि कंटेनमेंट जोन में लोग मिलजुल रहे हैं। लोग घर की छत पर ही नहीं बल्कि सड़क पर निकलकर पतंग उड़ा रहे हैं। बैठकें हो रही हैं। आना-जाना बदस्तूर जारी है। यही वजह है कि कंटेनमेंट जोन होने पर भी बड़ी संख्या में मरीज मिल रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट बताती है कि रामकुंड कंटेनमेंट जोन से शनिवार और रविवार को 1, कबीर नगर से 1,हीरापुर से 1, सिद्धार्थ चैक से 1, परशुराम नगर प्रोफेसर कॉलोनी से 1, मौलश्री विहार से 1, प्रगति नगर से 2, समता कॉलोनी से 2 संक्रमित मिले हैं। वहीं हॉटस्पॉट कंटेनमेंट जोन माना बस्ती, मंगलबाजार, रामकुंड, सदाणी दरबार से लगातार मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है।

चिन्हित कंटेनमेंट जोन, जहां नियम टूटे और हुआ कोरोना ब्लॉस्ट

केस 1 – मंगल बाजार

राजधानी रायपुर के मंगल बाजार क्षेत्र यहां से अब तक 150 से अधिक मरीजों की रिपोर्ट आ चुकी हैं। दो लोगों की जान भी जा चुकी है। 2 से ढाई किमी की परिधि वाला ये क्षेत्र बीते 20 दिनों से सील है। घर से निकलने तक पर प्रतिबंध है। बावजूद इसके स्थानीय लोग नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। युवा चैक पर भीड़ जमा लेते हैं और बिना मास्क के ही मिल- जुल रहे हैं।


 

केस 2 – पुरानी बस्ती
पुरानी बस्ती थाना चैक से कंकाली तालाब की तरफ जाने वाली सड़क बंद है, क्योंकि यहां मरीज मिले हैं। मगर लोगों में जरा भी यह भय नहीं हैं कि वे भी संक्रमित हो सकते हैं । बच्चे पतंगबाजी कर रहे हैं। आना-जाना लगा हुआ है। राखी के दिन बेकरी और कपड़ा दुकान खुली हुई थी। सबसे हैरत में डालने वाली बात यह है कि कंटेनमेंट जोन थाना पुरानी बस्ती के ठीक सामने ही है। यहां के लोगों को पुलिस का भी डर नहीं है।

केस 3 – सदाणी दरबार
यहां अब तक तकरीबन 80 मरीज मिल चुके हैं। यहां भी दो लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। यहां के कई संक्रमित मरीज शहर के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं। इन सबके बावजूद लोग महामारी से बचाव के लिए बनाए गए नियमों को ताक पर रख रहे हैं। यही वह कंटेनमेंट जोन है. जहां के कुछ मरीजों ने अस्पताल में भर्ती होने से मना किया था। तीन-तीन बार एंबुलेंस लौटाई गई।

10 दिन में कोरोना के 2638 केस और 22 की मौत, पिछले 10 दिन के मुकाबले 85 मरीज और 72 मौतें बढ़ीं, 25 हजार बेड की व्यवस्था के निर्देश

ये तस्वीर रायपुर के संतोषी बाजार की है। एक दिन पहले की यह तस्वीर रोज के हालात को बयां कर रही है। शहर में सुबह 10 बजे तक सब्जी की दुकानें खुली रहती हैं। ऐसे में सड़कों पर यह भीड़ आम है।

  • प्रदेश में 15 जुलाई को 4556 मरीज थे
  • 3 अगस्त को इनकी संख्या बढ़कर 9820 हुई
  • रायपुर में भी 10 दिनों में 1193 केस बढ़े
  • 13 मरीजों की उपचार के दौरान जान गई

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। रोज ही 200 से ज्यादा केस सामने आ रहे हैं। अगर आंकड़ों की बात करें तो पिछले 10 दिनों में 2638 केस सामने आये हैं, जबकि 22 की मौत हो चुकी है। सबसे ज्यादा केस राजधानी रायपुर में ही सामने आ रहे हैं। यहां 10 दिनों में 1193 केस बढ़े हैं, जबकि 13 मरीजों की जान गई है।

रायपुर सहित प्रदेश में यह आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। 15 जुलाई तक प्रदेश में 4556 केस थे, जो कि पहले 10 दिन में बढ़कर 6819 और फिर 3 अगस्त तक 9820 हो गए। यानी कि 20 दिनों में 85.78% केस बढ़ गए हैं। इसी तरह मरने वालों की संख्या 20 से बढ़कर 36 और अब 61 पर आ गई है। इसमें भी 20 दिनों के दौरान 72.73 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

प्रदेश में पिछले 10 दिनों (25 जुलाई से 3 अगस्त) की स्थिति

दिनांक छत्तीसगढ़

(मरीज/ एक्टिव केस/मौत)

रायपुर

(मरीज/ एक्टिव केस/मौत)

3 अगस्त 9820/2503/61 3181/1209/31
2 अगस्त 9608/2559/58 3112/1267/29
1 अगस्त 9427/2762/55 3045/1355/26
31 जुलाई 9192/2908/54 2947/1463/24
30 जुलाई 8856/2884/51 2763/1402/23
29 जुलाई 8600/2914/50 2659/1407/20
28 जुलाई 8286/2801/46 2524/1381/20
27 जुलाई 7980/2763/45 2366/1343/20
26 जुलाई 7613/2626/43 2187/1252/19
25 जुलाई 7182/2460/39 1988/1166/18
दिनांक कुल मरीजों की संख्या मौत
24 जुलाई तक 6819 36
15 जुलाई तक 4556 20
10 दिन में बढ़े मरीज 2263 16

 

कम्युनिटी स्प्रेड का खतरा बढ़ा
अब प्रदेश में कम्युनिटी स्प्रेड का खतरा भी मंडराने लगा है। नियमानुसार जब 20 फीसदी से ज्यादा ऐसे मरीज आने लगे, जिनके संक्रमित होने के सोर्स का पता न हो तो उसे कम्युनिटी स्प्रेड में माना जाता है। प्रदेश में भी ऐसे मरीज मिलने लगे हैं, जिनके संक्रमित होने की जानकारी उनको खुद नहीं है। हालांकि यह संख्या अभी महज 5 फीसदी ही है।

प्रदेश में अभी 157 कोविड केयर सेंटर, इनमें 5898 बेड
प्रदेश में इस समय 157 कोविड केयर सेंटर हैं। इनमें 5898 बेड की व्यवस्था की गई है। वहीं मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए राज्य सरकार ने टेस्ट बढ़ाकर 10 हजार करने और 25 हजार बेड की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा प्राइवेट अस्पतालों में भी इलाज के लिए फिक्सड ट्रीटमेंट पैकेज तय किया गया है।

Whatsapp button

Youtube button

Source link