Sunday, September 27, 2020
Home Corona news चीन का बड़ा दावा ; अब तक एक लाख लोगों को टिका...

चीन का बड़ा दावा ; अब तक एक लाख लोगों को टिका लगाया जा चुका है और इसका कोई साईड एफेक्ट भी नही

Whatsapp button

आये दिन कोरोना वैक्सीन को लेके खबरें आती है। कई देशों ने कोरोना वैक्सीन बनाने का दवा भी किया था। उन देशों में रूस सबसे आगे निकल चूका था, तो वही भारत भी अपने ट्रायल्स में कामयाब होते जा रहा था। उसी कड़ी में चीन की वैक्सीन निर्माता कंपनी ‘चाइना नेशनल बायोटेक ग्रुप’ (CNBG) ने अपनी कोरोना वैक्सीन को एक सुरक्षित दवा बताया है.

वैक्सीन डेवलपर के मुताबिक, अब तक एक लाख से भी ज्यादा लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है. जिन लोगों को वैक्सीन (Corona virus vaccine) के दोनों टीके लगाए गए हैं, उनमें अभी तक किसी तरह के साइड इफेक्ट्स (vaccine side ffects) नहीं दिखे हैं.एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (AstraZeneca and Oxford vaccine) द्वारा डेवलप वैक्सीन से वॉलंटियर के बीमार पड़ने के बाद चीनी कंपनी ने वैक्सीन के दोनों डोज और इसके ‘रीकॉम्बिनेंट एडिनोवायरस वेक्टर वैक्सीन’ पर ज्यादा जोर दिया है।

ये वैक्सीन हाई रिस्क ग्रुप के मेडिकल स्टाफ, राजनयिक और कर्मचारियों को दिए जाते रहे हैं, जिन्हें विदेश या ज्यादा जोखिम वाली जगहों पर भेजा गया था. वैक्सीन लगने के बाद ये लोग कई महीनों तक विदेश में ही रहे थे.झोउ ने कहा कि ये वो लोग थे जो महामारी की शुरुआत में पहले से ही विदेशों मे मौजूद थे, वो नहीं जिन्हें हाल ही में विदेश भेजा गया था. कई देशों से इस तरह के मामले सामने आए थे.

राजधानी में पुलिस और प्रशासन की पेंच में बुरी तरह फंसा परिवार ; मृत शव की पोस्टमार्टम में लग गए 11 दिन

हजारों संक्रमित लोगों को ये वैक्सीन दिए जाने के बाद विदेश नहीं भेजा गया है, जिससे साबित होता है कि वैक्सीन कितनी प्रभावशाली है.चीन की ‘कैनसिनो बायोलॉजिक्स’ के चीफ साइंटिफिक ऑफिसर एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन जैसा मैकेनिज्म इस्तेमाल करने के बावजूद इसकी सुरक्षा पर जोर दे रहे हैं।

दोनों में वैक्सीन में एक बड़ा फर्क सिर्फ ये है कि कैनसिनो बायोलॉजिक्स ने ह्यूमन बॉडी के एडिनोवायरस का इस्तेमाल किया है, जबकि एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड ने चिम्पैंजी का एडिनोवायरस इस्तेमाल किया है.

वुहान यूनिवर्सिटी के पैथोजन बायोलॉजी डिपार्टमेंट के यांग झांक्यू ने शुक्रवार को ग्लोबल टाइम्स को बताया कि चीनी वॉलंटियर्स की दी गई ये वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के पहले दो चरणों को सफलतापूर्वक पार कर चुकी है. ट्रायल के पहले चरण जिसमें ‘टॉक्सिक एफेक्ट्स’ की जांच की गई थी, उसमें भी किसी तरह की दिक्कत सामने नहीं आई।

Breaking News : उत्तर भारतीय समाज के अध्यक्ष पद के चुुनाव हेतु मतदान शुरू – श्रीकांत तिवारी जी का पलडा भारी….जीतने की प्रबल सम्भावना..!!

Youtube button

 विज्ञापन के लिए संपर्क करें –  8889075555