Treatments of lotus dental clinic birgaon

छत्तीसगढ़ का चुनावी पारा बढ़ाने के लिए कांग्रेस और भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं ने मोर्चा संभाल लिया है। इनकी चुनावी सभाओं में एक ओर जहां जमकर भीड़ आ रही है।

HIGHLIGHTS

  1. कांग्रेस और भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं की चुनावी सभा ने बदला राजनीतिक माहौल
  2. आम आदमी पार्टी प्रदेश की सभी 90 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की कर रही तैयारी
  3. अब तक भाजपा के 21, बसपा के नौ और आप के दस उम्मीदवारों की पहली सूची जारी

छत्तीसगढ़ का चुनावी पारा बढ़ाने के लिए कांग्रेस और भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं ने मोर्चा संभाल लिया है। इनकी चुनावी सभाओं में एक ओर जहां जमकर भीड़ आ रही है, वहीं उनके भाषणों से चुनाव की दिशा भी तय हो रही है। भाजपा की ओर से चुनाव प्रचार अभियान के मैदान में अब तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के अलावा कई राज्यों के मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री का कार्यक्रम हो चुका है।

कांग्रेस की ओर से राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, राहुल गांधी के बाद अब प्रियंका गांधी की सभा होने जा रही है। ऐसा नहीं है कि इस विधानसभा चुनाव में सिर्फ कांग्रेस और भाजपा ही मैदान में हैं। इस बार आम आदमी पार्टी (आप) प्रदेश की सभी 90 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की तैयारी कर रही है।

आप के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान की राजधानी और बस्तर में चुनावी सभाएं भी हो चुकी हैं।

आलम यह है कि कांग्रेस, भाजपा और आप के राष्ट्रीय नेताओं की चुनावी सभा ने राजनीतिक माहौल को बदलकर रख दिया है। कांग्रेस ने नवा रायपुर के मेला मैदान में युवा मितान सम्मेलन का आयोजन किया, जिसमें प्रदेशभर के युवाओं का जमावड़ा हुआ। राहुल गांधी ने युवाओं के सामने नवा छत्तीसगढ़ के सपने रखे।

अब 21 सितंबर गुरुवार को भिलाई में प्रियंका गांधी महिलाओं के बीच पहुंच रही हैं। यहां राज्य सरकार की ओर से महिलाओं के पक्ष में किए गए काम का खाका पेश किया जाएगा।

प्रियंका में उत्तर प्रदेश के चुनाव में ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ कैंपेन किया था। इस कैंपेन को छत्तीसगढ़ में आगे बढ़ाया जाएगा। इससे पहले कांग्रेस ने बस्तर में भरोसे का सम्मेलन किया था, जिसमें प्रियंका शामिल हुई थीं। वहीं, राष्ट्रीय अध्यक्ष खरगे की जांजगीर-चांपा और राजनांदगांव में दो चुनावी सभाएं हो चुकी हैं।

भाजपा की ओर से अमित शाह मजबूती से मोर्चा संभाले हुए हैं। उनकी दुर्ग में सभा हुई, उसके बाद बस्तर में परिवर्तन यात्रा को हरी झंडी दिखाना था, लेकिन मौसम ने साथ नहीं दिया और शाह नहीं आए।

इससे पहले शाह ने राजधानी में भाजपा के आरोप पत्र को जारी किया। साथ ही सरायपाली में आदिवासी सम्मेलन में शामिल हुए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रायपुर और रायगढ़ में चुनावी सभाएं हो चुकी हैं। वहीं राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा बस्तर, बिलासपुर और जशपुर में सभा ले चुके हैं।

जशपुर में नड्डा ने परिवर्तन यात्रा को हरी झंडी भी दिखाई थी। क्षेत्रीय दलों की भूमिका पर मंथन: प्रदेश में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और सर्व आदिवासी समाज की पार्टी चुनाव मैदान में है। इन दलों का अपने-अपने क्षेत्र में प्रभाव है और उनके उम्मीदवार आठ से दस हजार वोट पाते हैं। इनके समीकरण पर राष्ट्रीय दलों की नजर है।

भाजपा, बसपा और आप के उम्मीदवार घोषित

अब तक भाजपा के 21, बसपा के नौ और आप के दस उम्मीदवारों की पहली सूची जारी हुई है। कांग्रेस की पहली सूची का अभी इंतजार किया जा रहा है। प्रदेश में 71 सीटों पर कांग्रेस के विधायक हैं। ऐसे में कांग्रेस उम्मीदवार घोषित करने से पहले पुख्ता किलेबंदी कर लेना चाह रही है।