Treatments of lotus dental clinic birgaon

छत्‍तीसगढ़ में बारिश की गतिविधियों में कमी होना तो लगभग तय माना जा रहा है, लेकिन अधिकतम तापमान में कोई विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है।

अब राजधानी सहित छत्‍तीसगढ़ में बारिश का दौर थमता हुआ दिखाई दे रहा है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार मानसून द्रोणिका अब पूर्वाेत्तर की ओर से होकर गुजर रही है, इसलिए प्रदेश के दक्षिणी हिस्से को छोड़कर अन्य क्षेत्रों में बारिश के आसार कम नजर आ रहे हैं।

वहीं, मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है, जबकि रायपुर शहर में आकाश सामान्यत: मेघमय रहने के आसार हैं और रात तक गरज-चमक के साथ बौछार पड़ने की संभावना है।

बारिश की गतिविधियों में कमी होना तो लगभग तय माना जा रहा है, लेकिन अगले तीन दिनों तक अधिकतम तापमान में कोई विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है। इसी बीच रविवार को दिनभर बादलों की आंख मिचौली के बाद देर शाम बारिश ने राहत दी। वहीं, प्रदेश में अधिकतम तापमान 32.0 डिग्री सेल्सियस बीजापुर और न्यूनतम तापमान 22.1 डिग्री सेल्सियस जगदलपुर में दर्ज किया गया।

इस तरह विचरण कर रही मानसून द्रोणिका

एक चक्रीय चक्रवाती परिसंचरण दक्षिण बिहार और उसके आसपास बना हुआ है, जो माध्य समुद्रतल से 1.5 किमी ऊपर तक विस्तारित है। वहीं, माध्य समुद्र तल से मानसून द्रोणिका अमृतसर, यमुनानगर, बरेली, गोरखपुर, पटना, मालदा और पूर्व की ओर से होते हुए मिजोरम से होकर गुजर रही है।

इन क्षेत्राें में हुई वर्षा

रविवार को प्रदेश के कम हिस्सों में ही बारिश देखने को मिली। जिसमें लोहांडीगुड़ा, ओरछा में अधिकतम तीन सेमी, जगदलपुर, सरायपाली, धरमजयगढ़, शंकरगढ़ में दो सेमी, बसना, कुसमी, पलारी, लाभांडीह, बस्तर, पथरिया, पिथौरा, बास्तानार में एक सेमी, जबकि अन्य कुछ स्थानों पर इससे कम वर्षा दर्ज की गई।