Treatments of lotus dental clinic birgaon

मानसून की सक्रियता छत्‍तीसगढ़ के ऊपरी हिस्से में काफी कम ही देखने को मिल रही है।

मानसून की सक्रियता छत्‍तीसगढ़ के ऊपरी हिस्से में काफी कम ही देखने को मिल रही है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार मानसून द्रोणिका मध्य और दक्षिणी छत्तीसगढ़ की ओर से ही गुजर रही है। ऐसे में सोमवार को बस्तर संभाग के एक से दो स्थानों मध्यम से भारी बारिश के आसार हैं, जबकि सरगुजा संभाग को अच्छी बारिश के लिए 25 जुलाई तक इंतजार करना होगा।

इसके बाद एक नया सिस्टम वहां भी सक्रिय हो रहा है, जिसकी वजह से निम्न दाब का क्षेत्र बनेगा और मानसून का टर्फ अंबिकापुर के ऊपर ही रहने की संभावना है। इसकी वजह से अंबिकापुर सहित पूरे संभाग में अच्छी बारिश होने के आसार कम ही हैं। वहीं, आज प्रदेश के अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है।

इसी बीच रविवार को राजधानी सहित प्रदेश के अनेक हिस्सों में अच्छी बारिश देखने को मिली। सर्वाधिक बारिश लोहांडीगुड़ा में 10 सेंटीमीटर, सुकमा में आठ सेमी, जबकि सबसे कम बारिश डौंडीलोहारा में तीन सेमी हुई। वहीं, कई जिलों में अधिकतम तापमान में भी गिरावट देखने को मिली। प्रदेश में सर्वाधिक तापमान रायगढ़ जिले में 34.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि न्यूनतम तापमान जगदलपुर में 22.7 डिग्री सेल्सियस रहा।

तीन सिस्टम सक्रिय, चौथा आज से

वर्तमान में प्रदेश में तीन सिस्टम सक्रिय हैं। एक मानसून द्रोणिका दीसा, रतलाम, कांकेर, कलिंगापट्टनम और दक्षिण-पूर्व की ओर से होते हुए पश्चिम बंगाल तक विस्तारित है। वहीं, एक चक्रवाती संचरण दक्षिणी ओडिशा और उसके आसपास के क्षेत्र पर तीन किमी की ऊंचाई पर है, जबकि एक हवा का शियर जोन 20 डिग्री उत्तरी अक्षांशपर तीन से पांच किमी की ऊंचाई पर स्थित है।

इसलिए मध्य और दक्षिणी छत्तीसगढ़ में बारिश हो रही है। वहीं, चौथा सिस्टम सोमवार से दक्षिण मध्य और उससे लगे उत्तरी बंगाल की खाड़ी के ऊपर निम्‍न दबाव का क्षेत्र बना रहा है। इसलिए मंगलवार से सरगुजा संभाग में भी बारिश होने की संभवना है।