Treatments of lotus dental clinic birgaon

छत्‍तीसगढ़ की रायपुर पुलिस का नशे के खिलाफ अभियान ‘हैलो जिंदगी’ 15 जुलाई से जारी है।

छत्‍तीसगढ़ की रायपुर पुलिस का नशे के खिलाफ अभियान ‘हैलो जिंदगी’ 15 जुलाई से जारी है। पूरी पुलिस टीम के साथ डीएसपी ललिता मेहर समाज से नशे को दूर करने के लिए भरसक प्रयास में लगी हैं। वे अपनी टीम के चप्पे-चप्पे पब्लिक प्लेसेस, हाउसिंग सोसायटी, मोहल्ले, स्कूल, कालेज, कार्यालयों सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी कई माध्यमों से लोगों को जागरूक में जुटी हुई है।

रायपुर पुलिस के साथ डीएसपी ललिता ने कसी कमर

डीएसपी ललिता मेहर ने बताया कि नशे के विरूद्ध जागरूगता अभियान में आम जनता, डाक्टर्स, स्कूल- कालेज के छात्र, स्वयं सेवी संगठन, गैर शासकीय संगठन और कई सामाजिक संगठन शामिल होकर पुलिस के अभियान में पूरा सहयोग कर रहे हैं। साथ ही इंटरनेट मीडिया के माध्यम से जन-जन तक जागरूकता का संदेश पहुंचा रहे हैं। पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल के निर्देशानुसार जागरूकता अभियान के साथ ड्रग पैडलर्स और नशे के अवैध बिक्री पर कार्रवाई भी तेज कर दी गई है।

नशे की शुरुआत कैसी होती है

डीएसपी ललिता मेहर ने बताया कि आजकल नशे के चपेट में सबसे ज्यादा युवा है। प्यार या फैशन के नाम पर युवाए नशे की लत में फिसलती जा रही है। इसके साथ मौज मस्ती के लिए, हम उम्र के दबाव में, परिवारिक कलह के कारण, फिल्मों और वेब सीरीज से प्रभावित होकर, अकेलापन महसूस होने पर, दुखी या गुस्सा होने पर, काम के बोझ के कारण और प्यार में धोखा खाने जैसे मामलों में नशे कर रहे हैं।

नशे के दुष्प्रभाव:

शारीरिक: हार्ट अटैक, हाई बीपी, कैंसर लीवर खराबी, नपुंसकता

मानसिक: याददाश्त की कमी, नींद नहीं आना, गुस्सैल , चिड़चिड़ापन,

परिवारिक: कलह, मारपीट, बच्चों की परवरिश में दुष्प्रभाव, आर्थिक हानि

सामाजिक: छवि खाराब होना, अपराध बढ़ना

बचाव के तरीके

डीएसपी ललिता मेहर ने बताया कि कोई नशे का आदि है तो उसे डाक्टरी सलाह या काउंसिलिंग लेना चाहिए। इसके साथ व्यायाम करके, तनाव से बचकर, अपनों के साथ समय व्यतीत कर, अच्छी संगति में रहकर, जो नशा छोड़ चुके है उनका मार्गदर्शन लेकर, नशा मुक्ती केंद्र की सहायता लेकर और अच्छे काम में व्यस्त रहकर नशे से दूरी बनाई जा सकती है।

युवाओं को बेहतर करियर चयन में मदद कर रही ललिता मेहर

रायगढ़ के ग्रामीण अंचल से आने वाली ललिता मेहर का कहना है ज्यादातर गांव के युवाओं को जानकारी नहीं होती कि आगे क्या करना है, किसी क्षेत्र में जाने के लिए किस चीज की पढाई करनी है, कौन सी परीक्षा देनी है। इसलिए वे आनलाइन माध्यम जैसे यूट्यूब पर भर्ती परीक्षा को लेकर जानकारी देती रहती है। साथ ही स्कूल कालेज, कोचिंग संस्थान में जाकर भी युवाओं को आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करती है।