Treatments of lotus dental clinic birgaon

सावन के अंतिम सोमवार शिवालयों में भक्‍तों की भीड़ जुटी रही। बूढ़ेश्‍वर महादेव मंदिर, हटकेश्‍वर महादेव मंदिर के साथ शहर के अलग-अलग शिव मंदिर हर हर महोदव के जयकारों से गुंजायमान रहा।

HIGHLIGHTS

  1. सावन के अंतिम सोमवार शिवालयों में भक्‍तों की भीड़
  2. कांवड़ियों का किया स्‍वागत फिर बेल पत्र वितरित किया
  3. रायपुर में निकाली गई 2 किलोमीटर लंबी कांवर यात्रा

सावन के अंतिम सोमवार शिवालयों में भक्‍तों की भीड़ जुटी रही। बूढ़ेश्‍वर महादेव मंदिर, हटकेश्‍वर महादेव मंदिर के साथ शहर के अलग-अलग शिव मंदिर हर हर महोदव के जयकारों से गुंजायमान रहा। सुबह से ही मंदिरों में भक्‍तों का तांता लगा रहा।

भक्‍तों ने खारुन नदी में स्‍नान करने के बाद भक्‍तों ने हटकेश्‍वर महादेव मंदिर में जलाभिषेक कर पूजा-अर्चना की। दूर-दूर से भक्‍त शिव मंदिर में भगवान भोलेनाथ के दर्शन और पूजा-अर्चना के लिए पहुंचे। सावन का अंतिम सोमवार की वजह से मंदिरों में सुबह से ही भक्‍तों की लंबी लाइन लगी रही।

कांवड़ियों को बेल पत्र वितरित

वहीं पश्चिम विधानसभा क्षेत्र के विधायक एवं संसदीय सचिव विकास उपाध्याय के समर्थकों एवं प्रतिनिधियों द्वारा बाबा हटकेश्वर नाथ महादेव, महादेव घाट मंदिर में जल अर्पण करने समस्त कांवड़ियों को बेल पत्र वितरित किया जा रहा है। साथ ही उनका स्वागत और अभिनंदन भी किया जा रहा है। भोलेनाथ पर जल अर्पण करने के लिए जाने वाले प्रत्येक कांवड़ियों को इसकी सुविधा दी जा रही है।

भोलेनाथ की भक्ति में डूबा शहर

इससे एक दिन पहले रायपुर पश्चिम के पूर्व विधायक कैबिनेट मंत्री रहे राजेश मूणत ने भव्य कांवर यात्रा का आयोजन किया। जिसमें रायपुर के हजारों लोग शामिल हुए और कांवर में गंगाजल भरकर पैदल यात्रा करते हुए महादेव घाट स्थित बाबा हटकेश्वरनाथ महादेव मंदिर में जलाभिषेक किया।

भोलेबाबा की भक्ति और मस्ती में बाबा भोलेनाथ की जय जय कार करते हुए नाचते गाते पैदल चलते हुए बाबा हटकेश्वरनाथ का जलाभिषेक किया। लगभग 2 किलोमीटर लंबी कावड़ यात्रा में महिलाएं, पुरुष, युवक-युवतियों, बुजुर्ग और बच्चों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। जगह-जगह कांवर यात्रा का भव्य स्वागत भी किया गया। जगह-जगह बने मंचों से कांवरियों के ऊपर पुष्प वर्षा की गई।

राजेश मूणत ने इस दौरान कहा कि विगत वर्ष की तरह ही इस वर्ष भी हमने कांवर यात्रा निकाली और बोलेबाबा की भक्ति में अपार जनसैलाब बाबा हटकेश्वरनाथ को जलाभिषेक करने पहुंचा। उन्होंने आगे कहा की मैं स्वयं को सौभाग्य शाली मानता हूं की बाबा महाकाल ने मुझे हजारों भक्तो को जलाभिषेक करने का माध्यम बनाया।