Treatments of lotus dental clinic birgaon

विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उम्मीदवारों की घोषणा करके बढ़त तो बना ली है, लेकिन बची सीटों पर जोड़तोड़ चल रही है। कांग्रेस के दावेदार भी टिकट के लिए दौड़ लगा रहे हैं।

HIGHLIGHTS

  1. चुनाव में टिकट की जोड़तोड़ में आगे बढ़ने की होड़
  2. कांग्रेस के दावेदार प्रमोद शर्मा की एंट्री में बने बैरियर
  3. रायपुर संभाग की 20 में से 14 पर कांग्रेस के विधायक

विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उम्मीदवारों की घोषणा करके बढ़त तो बना ली है, लेकिन बची सीटों पर जोड़तोड़ चल रही है। कांग्रेस के दावेदार भी टिकट के लिए दौड़ लगा रहे हैं। रायपुर संभाग की 20 में से 14 पर कांग्रेस और पांच सीटों पर भाजपा के विधायक हैं।

बलौदाबाजार विधानसभा सीट से जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जकांछ के प्रमोद शर्मा विधायक हैं, जो पहले भाजपा में जाने की जुगत लगा रहे थे। पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस में जोर आजमा रहे हैं। हालांकि स्थानीय स्तर पर विरोध के कारण प्रमोद की स्थिति पेंडुलम वाली बन गई है।

कांग्रेस के दावेदार प्रमोद की एंट्री में बने बैरियर

कांग्रेस के दावेदार प्रमोद की एंट्री में बैरियर बनकर खड़े हो गए हैं। संभाग की राजनीति को साधने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सभा हो चुकी है, तो एक और दो सितंबर को केंद्रीय मंत्री अमित शाह और कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी रायपुर आ रहे हैं।

पिछले चुनाव में भाजपा के तीन नेता बृजमोहन अग्रवाल, अजय चंद्राकर और शिवरतन शर्मा अपनी सीट बचाने में सफल रहे। वहीं, धमतरी से कम अंतर से रंजना साहू और बिंद्रानवागढ़ से डमरुधर पुजारी को जीत मिली थी। भाजपा ने जीती सीट पर अभी प्रत्याशी घोषित नहीं किया हैं। जीती पांच में से तीन सीट पर विधायकों को चुनौती देने वाले नेता तो हैं, लेकिन ये चुनावी रण जीत पाएंगे, इस पर संदेह है।

रायपुर उत्तर पर सबकी नजर

रायपुर शहर की सीट में उत्तर की सीट पर सबकी नजर है। भाजपा यहां से पिछले दो चुनाव से सिंधी समाज के श्रीचंद सुंदरानी को उम्मीदवार बना रही थी। इस बार विभिन्‍न समाज के लोग भी दावे कर रहे हैं। वहीं, कांग्रेस से वर्तमान विधायक कुलदीप जुनेजा के साथ महापौर एजाज ढेबर की दावेदारी है।

टिकट कटी, तो होगी बगावत

संभाग के कई विधायकों के कमजोर प्रदर्शन की रिपोर्ट के बाद अब उनके स्थान पर कांग्रेस नए प्रत्याशी उतारने पर विचार कर रही है। इस बीच, यह संकेत भी मिल रहे हैं कि कांग्रेस की टिकट नहीं मिलने पर विधायक पाला भी बदल सकते हैं। उनके पास भाजपा सबसे मजबूत विकल्प है। भाजपा ने पिछले चुनाव में अन्य दलों से चुनाव लड़े दो नेताओं को टिकट देकर बाकी के लिए रास्ते खोल दिए हैं।

संभाग के दो रोचक घटनाक्रम

रायपुर ग्रामीण से विधायक सत्य नारायण शर्मा ने चुनाव के लिए अपने पुत्र पंकज शर्मा को आगे कर दिया है। उन्होंने इसके पीछे अपनी बढ़ती उम्र को कारण बताया है। वहीं, राजिम सीट से आइएएस रानू साहु की मां गरियाबंद की जिला पंचायत सदस्या लक्ष्मी साहू ने आवेदन किया है। रानू, कोयला घोटाले में ईडी की कार्रवाई के बाद जेल में हैं।