Treatments of lotus dental clinic birgaon

समय पर जमा नहीं किया चावल, मां राइस इंडस्ट्रीज ने अनुबंध का किया उल्लंघन।

बिलासपुर में कस्टम मिलिंग के चावल को तय समय में जमा नहीं करने पर खाद्य विभाग ने बड़ी कार्रवाई की है। राइस मिल में गड़बड़ी पाए जाने के बाद विभाग ने 85 लाख रुपए कीमती 3 हजार 400 क्विंटल धान को जब्त किया है। दरअसल, कस्टम मिलिंग का चावल जमा नहीं होने पर कलेक्टर ने राइस मिलर्स के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करने के निर्देश दिए है, जिसके बाद विभाग ने यह पहली कार्रवाई की है।

बीते दिनों कलेक्टर सौरभ कुमार ने खाद्य विभाग के अफसरों की बैठक लेकर कस्टम मिलिंग के चावल की जानकारी ली थी। इस दौरान अफसरों ने बताया कि जिले के ज्यादातर राइस मिलर्स समर्थन मूल्य पर खरीदे गए धान की अफरातफरी कर रहे हैं और कस्टम मिलिंग का चावल जमा नहीं कर रहे हैं। इस पर उन्होंने अफसरों को राइस मिल की जांच कर भौतिक सत्यापन करने के निर्देश दिए थे।

बिल्हा ब्लॉक में हुई पहली कार्रवाई, 85 लाख का धान जब्त
कलेक्टर के निर्देश के बाद खाद्य निरीक्षकों ने राइस मिलों की जांच शुरू कर दी है। बिल्हा उत्तर के राइस मिलर्स की जांच की जा रही है। खाद्य निरीक्षक ने मदनपुर स्थित मां राइस इंडस्ट्रीज की जांच की, जिसमें मिलर द्वारा आवश्यक पंजियों का संधारण नहीं किया गया था। वही, राइस मिल के भौतिक सत्यापन में भी गड़बड़ी पाई गई। उसके द्वारा उठाव किए गए धान के साथ ही भारतीय खाद्य निगम एवं नागरिक आपूर्ति निगम में जमा किए गए चावल एवं राइस मिल में उपलब्ध धान का मिलान करने पर 615 क्विंटल धान कम मिला। इस अनियमितता के कारण राइस मिल के 3 हजार 400 क्विंटल धान, जिसका धान के समर्थन मूल्य अनुसार 85 लाख रुपए कीमत है। उसे जब्त कर लिया गया है। मामले में छत्तीसगढ़ कस्टम मिलिंग चावल उपार्जन आदेश 2016 के तहत कार्रवाई की जा रही है। अफसरों ने कहा कि शासन द्वारा निर्धारित समय-सीमा में कस्टम मिलिंग का चावल जमा नहीं करने वाले राइस मिलर्स पर आगे भी इस तरह की कार्रवाई की जाएगी।