Treatments of lotus dental clinic birgaon

छत्तीसगढ़ की सत्ता में वापसी की तैयारी कर रही भाजपा राज्य के दो कोनों से परिवर्तन यात्रा निकालने जा रही है। लेकिन दक्षिण छत्तीसगढ़ में नक्सली भाजपा के लिए चुनौती बने हुए हैं।

HIGHLIGHTS

  1. दंतेवाड़ा से भाजपा की परिवर्तन यात्रा का होगा आगाज
  2. दक्षिण छत्तीसगढ़ में नक्सली बने भाजपा के लिए चुनौती
  3. शाह 12 सितंबर को परिवर्तन यात्रा को दिखाएंगे हरी झंडी

छत्तीसगढ़ की सत्ता में वापसी की तैयारी कर रही भाजपा राज्य के दो कोनों से परिवर्तन यात्रा निकालने जा रही है। उत्तर में तो समस्या नहीं है परंतु दक्षिण छत्तीसगढ़ में नक्सली भाजपा के लिए चुनौती बने हुए हैं। सुकमा, बीजापुर, दंतेवाड़ा व नारायणपुर जैसे नक्सल प्रभावित इलाकों में भाजपा कार्यकर्ताओं की लगातार हत्या हो रही है, जिससे उनका मनोबल टूटा हुआ है।

इसे देखते हुए गृह मंत्री अमित शाह परिवर्तन यात्रा को हरी झंडी दिखाने के लिए 12 सितंबर को नक्सलगढ़ दंतेवाड़ा पहुंच रहे हैं। शाह यहां नक्सलियों के विरूद्ध हुंकार भरेंगे और दहशत में जी रहे कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाएंगे। विशेषज्ञों की मानें यह आयोजन यह संदेश देगा कि वामपंथी उग्रवाद प्रभावित राज्यों के सभी क्षेत्रों में बलों का दबदबा है।

इसके पहले शाह 19 मार्च को जगदलपुर में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 84वां स्थापना दिवस समारोह में शामिल हुए थे। बस्तर में 2023 में कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा पर नक्सली हमले में 30 से अधिक लोग मारे गए थे इसलिए यहां आयोजित कार्यक्रम की सुरक्षा पुलिस के लिए भी चुनौती है। हालांकि बीजापुर, सुकमा और अंतागढ़ में यात्रा नहीं होगी।

सुरक्षा के लिए ये इंतजाम

डीजीपी(पुलिस महानिदेशक) अशोक जुनेजा ने स्वयं सुरक्षा की कमान संभाली है। दूसरे जिलों से अर्धसैन्य बलों को बुलाया गया है। शाह कार्यक्रम में हेलीकाप्टर से पहुंचेंगे, जेड प्लस सुरक्षा के साथ आयोजन स्थल के पांच किलोमीटर के दायरे में ड्रोन, जैमर, पैराग्लाइडर, हाट बैलून या अन्य फ्लाइंग आब्जेक्ट्स के उड़ने पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी।

अन्य नेताओं के लिए बुलेट प्रूफ वाहन होंगे। यात्रा के रास्ते में सुरक्षा बल मौजूद रहेंगे। उनकी ओर से हरी झंडी मिलने के बाद यात्रा आगे बढ़ेगी। यात्रा के लिए हाइटेक रथ तैयार किया गया है। इसमें सुरक्षा का ध्यान रखा गया है।

इसी वर्ष पहले मारे गए ये नेता

16 जनवरी को कांकेर में भाजपा नेता बुधराम करटाम की संदिग्ध मौत हुई थी। उनका शव घर से कुछ दूर सड़क किनारे मिला था। 5 फरवरी को बीजापुर के आवापल्ली इलाके के एक गांव में मंडल अध्यक्ष नीलकंठ कक्केम को नक्सलियों ने मारा था। 10 फरवरी को नारायणपुर के छोटे डोंगर में भाजपा के जिला उपाध्यक्ष सागर साहू की गोली मारकर हत्या की गई थी। 11 फरवरी को दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने पूर्व सरपंच रामधर की गला रेतकर हत्या कर दी थी।

महासंपर्क अभियान हुआ था प्रभावित

इसके पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नौ वर्ष पूरे होने पर भाजपा ने प्रदेश में महासंपर्क अभियान चलाया था मगर बस्तर के बीजापुर, सुकमा और दंतेवाड़ा के सड़क के किनारे बसे शहरी क्षेत्रों तक ही पार्टी नहीं पहुंच पाई थी।

मांगी है सुरक्षा

छत्तीसगढ़ भाजपा अध्‍यक्ष अरुण साव ने कहा, बस्तर में परिवर्तन यात्रा के दौरान पर्याप्त सुरक्षा हो इसके लिए गृहसचिव और डीजीपी से मांग की है।

बस्तर आइजी पी. सुंदरराज ने कहा, बस्तर में जिन इलाकों से भाजपा का काफिला गुजरेगा वहां आवश्यकता पड़ने पर अतिरिक्त बल लगाया जाएगा।