Treatments of lotus dental clinic birgaon

विधानसभा चुनाव 2023 के चुनावी दंगल में भाजपा-कांग्रेस दोनों ही दलों ने अपने स्टार प्रचारकों की रैली-सभा करने के लिए केंद्रीय नेताओं से समय मांगा है।

HIGHLIGHTS

  1. चुनावी दंगल: शीर्ष नेताओं से चुनावी सभा कराकर शक्ति प्रदर्शन की तैयारी
  2. कांग्रेस-भाजपा ने स्टार प्रचारकों की रैली-सभा के लिए केंद्रीय नेताओं से मांगा समय
  3. छत्‍तीसगढ़ के पहले चरण के चुनाव में ताकत झोंकने की तैयारी में जुटे दोनों दल

विधानसभा चुनाव 2023 के चुनावी दंगल में भाजपा-कांग्रेस दोनों ही दलों ने अपने स्टार प्रचारकों की रैली-सभा करने के लिए केंद्रीय नेताओं से समय मांगा है।

भाजपा की ओर से प्रचार की कमान स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी संभालेंगे। इसके अलावा यदि मोदी समय नहीं दे पाए तो कम से कम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित की सभा और रोड शो का तड़का लगाने की मांग की जा रही है।

पार्टी सूत्रों की मानें तो मोदी, शाह और योगी की रैली और सभा के लिए सबसे अधिक मांग है। वहीं कांग्रेस की ओर से कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, सांसद राहुल गांधी, कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और स्वयं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सभाएं होंगी।

पहले चरण के चुनाव में ही झोकेंगे ताकत

बताया जाता है कि दोनों दल पहले चरण के चुनाव में ही ताकत झोंकने की तैयारी में हैं। पहले चरण का चुनाव सात नवंबर को है। इसके लिए भाजपा ने बस्तर और दुर्ग संभाग में 10-10 सभाएं करने की रणनीति बनाई है।

वहीं कांग्रेस ने भी अपने शीर्ष नेताओं के लिए सभा व रैली आयोजित करने की रणनीति बना ली है। पहले चरण में जिन 20 सीटों पर चुनाव होना है उनमें केवल एक सीट पर भाजपा विधायक हैं। बाकी 19 सीटें कांग्रेस के पास है।

भाजपा ने प्रदेश में नियुक्त किया प्रभारी

भाजपा ने प्रधानमंत्री मोदी, शाह और नड्डा के प्रवास को लेकर कार्यक्रम प्रभारी नियुक्त किए हैं। प्रधानमंत्री मोदी के लिए भाजपा नेता भूपेंद्र सवन्नी, शंकर अग्रवाल और किरण बघेल, शाह के लिए

संजय श्रीवास्तव, संजू नारायण सिंह ठाकुर और संध्या तिवारी और नड्डा के लिए अनुराग सिंहदेव, राजेश पांडेय और विभा अवस्थी को प्रभारी नियुक्त कर दिए हैं।