राहुल को बचाने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू : राज्य के 5 आईएएस ; 2 आईपीएस समेत 500 से ज्यादा अफसर और कर्मचारी दिन रात एक किए हुए हैं

1450

जांजगीर- चांपा जिले के पिहरीद में बोरेवेल के गड्ढे में फंसे 11 साल के राहुल साहू को बचाने राज्य सरकार ने बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया है। इस ऑपरेशन में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ के साथ ही सेना की भी मदद ली जा रही है। राज्य के पांच आईएएस, दो आईपीएस समेत विभिन्न विभागों के 500 से ज्यादा अफसर और कर्मचारी दिन रात एक किए हुए हैं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर पिछले 24 घंटे से अधिक समय से घटना स्थल पर कलेक्टर जितेंद्र शुक्ला और एसपी विजय अग्रवाल डटे हुए हैं। बच्चे को बचाने के लिए बोरवेल के समानांतर खोदे जा रहे गडढ़े में कलेक्टर और एसपी खुद उतरकर कर्मचारियों को निर्देश दे रहे हैं।

Breaking : इस इलाके के पानी में है जानलेवा आर्सेनिक ; किडनी के 79वें मरीज की मौत ; रायपुर एम्स में चल रहा था इलाज

बता दें कि 10 जून को घर के पास खेलते वक्त 11 साल का राहुल बोरवेल के गडढ़े में जा गिरा। परिजनों को तीन घंटे बाद इसकी जानकारी मिली। बाद में प्रशासन को इसकी सूचना दी गई। सूचना मिलने के बाद कलेक्टर जितेंद्र शुक्ला और एसपी विजय अग्रवाल दल बल के साथ घटना स्थल पर पहुंच गए।

रेस्क्यू में इतनी मशीनें

राहुल 60 फीट पर फंसा है

उसको निकालने सुरंग खोदी जा रही है। इसके लिए एक स्टोन ब्रेकर, तीन पोकलेन, 3 जेसीबी, 3 हाइवा, 10 ट्रैक्टर, तीन वाटर टैंकर, 2 डीजल टैंकर, 1 हाइड्रा, 1 फायर ब्रिगेड, 1 ट्रांसपोर्टिंग ट्रेलर, तीन पिकअप, 1 होरिजेंटल ट्रंक मेकर और 2 जेनरेटर का उपयोग किया जा रहा है। दो एम्बुलेंस भी तैनात किया गया है।

सावधान : फर्जी दस्तावेज बनाकर किसान की जमीन हड़पने की साजिश ; BJP नेता 11 करोड़ की जमीन के 20 लाख देकर फरार ; देखें पूरी जानकारी

अभियान में ये मौजूद

रेस्क्यू ऑपरेशन में सेना के मेजर गौतम सूरी के साथ ही चार सदस्यीय टीम भी जुटी हुई है। इसके अलावा 4 आईएएस, 2 आईपीएस, 5 अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, 4 एसडीओपी, 5 तहसीलदार, 8 टीआई और 120 पुलिसकर्मी ईई (पीडब्ल्यूडी), ईई (पीएचई), सीएमएचओ, 1 सहायक खनिज अधिकारी, एनडीआरएफ के 32, एसडीआरएफ से 15 स्टाफ व होमगार्ड्स मौजूद हैं।

सीएम ने राहुल के परिजनों से की बात

राहुल को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिला कलेक्टर को आवश्यक निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने राहुल के परिजनों से भी बात की है। साथ ही उन्हें शासन- प्रशासन की ओर से यथासंभव प्रयास करने का भरोसा दिलाया है।