छत्तीसगढ़ बोर्ड के टॉपर्स की उड़ान;18 राउंड में 119 विद्यार्थी हेलीकॉप्टर में बैठे

507

रायपुर, छत्तीसगढ़ के मेधावी विद्यार्थियों को आज हवाई सफर कराया गया। छत्तीसगढ़ बोर्ड परीक्षा की मेरिट सूची में आये विद्यार्थियों को खास हेलीकॉप्टर में उड़ने का मौका मिला है। इन विद्यार्थियों की जॉय राइड सुबह 8 बजे से शुरू हो गई थी, जिसके बाद 18 राउंड में 119 बच्चों को सफर करने को मिला। एक छोटी सी उड़ान के बाद हेलीकॉप्टर से उतर रहे विद्यार्थियों की मुस्कान बड़ी हो गई है।

मेरिट में आए विद्यार्थियों की जॉय राइड के लिए राज्य सरकार ने शनिवार को एक विशेष हेलीकॉप्टर का इंतजाम किया। विद्यार्थियों को पहले ही रायपुर बुला लिया गया था। सुबह-सुबह सभी विद्यार्थियों को लेकर अधिकारी रायपुर के पुलिस परेड ग्राउंड स्थित सरकारी हेलीपैड पर पहुंचे। यहां स्टेट हैंगर में उनके बैठने का इंतजाम था। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला समेत कई लोगों ने छात्रों का स्वागत किया। थोड़ी देर बाद जॉय राइडिंग शुरू हो गई। एक ग्रुप में सात लड़कियों को हेलीकॉप्टर में बिठाया गया। शिक्षा मंत्री ने हरी झंडी दिखाई उसके बाद हेलीकॉप्टर ने उड़ान भरी। रायपुर के ऊपर एक चक्कर पूरा कर हेलीकॉप्टर वापस आया। उसके बाद सात विद्यार्थियों का नया दल उसमें सवार होने पहुंच गया। हेलीकॉप्टर से उतरे विद्यार्थियों की खुशी का ठिकाना नहीं था।

नारायणपुर के देवानंद कुमेटी ने बताया, वे अबूझमाड़ के कुंजामेड़ा से आते हैं। उनके इलाके में सड़क तक नहीं है। आज उन्हें हेलीकॉप्टर में उड़ने का मौका मिल गया। यह एक सपने का सच हो जाने जैसा अनुभव है। देवानंद ने इस साल 10वीं की परीक्षा में 90% अंक हासिल किया था। वे विशेष पिछड़ी जनजातियों में राज्य के टॉपर हैं। 12वीं की परीक्षा में छठवां स्थान पाने वाली नित्यारानी राय ने बताया, इस राइड में बहुत मजा आया। आसमान से रायपुर की हरियाली देखना एक अलग ही अनुभव था। दामिनी वर्मा का कहना था, ऐसा लग रहा है कोई बड़ा सपना पूरा हो गया है, मैं बहुत खुश हूं।

शिक्षा मंत्री बोले, पूरे देश में ऐसा पहली बार…

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने कहा, पूरे हिंदूस्तान में यह पहला राज्य है, जहां टॉपर्स को हेलीकाॅप्टर राइड कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिए इसकी घोषणा की थी। आज 119 बच्चे प्रदेश भर से आए हैं। इन बच्चों के चेहरों पर जो खुशी है, वही इसकी सफलता है।